पोस्ट

फ़रवरी, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

*जीवन की पतवार*

भागती-दौड़ती जिन्दगी की रफ्तार
ढील देता पतवार
क्षीण तार लहूलुहान
सम्भल जा मानव.....
तन के पिंजरे में
कैद सांसों के
जोड़ की तार
हृदय प्राणवायु
की पतवार ......
अस्तित्व था मेरा
समुन्दर
लहरों संग बाहर
आ निकला बूंद बनकर
जा बैठा कोमल
कपोलों के गुलाबों पर
इतराया खूब शबाब पर
देखकर सुन्दर ख्वाब मैं
जैसे सीप में मोती
नयनों में ज्योति
पुष्पों में ओस .....
अनामिका से उठाकर
फेंका मुझे इस कदर
मैं बूंद से फिर हो गई समुंदर
बूंद -बूंद एकत्र होकर माना की
मैं बनी समुंदर .....
बूंद की पतवार है समुंदर
समुंदर का जीवन है बूंदों के अंदर
तन के पिंजरे में कैद
सांसों की तार
हृदय प्राणवायु की पतवार ......














DIRECTORYofTOP INDIAN BLOGS
हमारी टीम ने हिन्दी ब्लॉग दुनिया के सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों को एक जगह संजोकर रखने एक प्रयास किया है। किसी भी ब्लॉग इस डायरेक्ट्री में शामिल करने से पहले हमारी टीम द्वारा उस ब्लॉग के कंटेट और उसकी उपयोगिता का अवलोकन किया जाता है। समय-समय पर हमारी टीम द्वारा डायरेक्ट्री को अपडेट भी किया जाता है। इस प्रक्रिया में अवलोकन के दौरान निष्क्रिय व महत्वहीन ब्लॉग पोस्ट करने वाले ब्लॉगों को हटा दिया जाता है और नये ब्लॉगों को शामिल किया जाता है। Select Any Category LITERATURE BLOGS TECH & TIPS BLOGS

विचार,एहसास और भाव

सीमा पर तैनात रक्षप्रहरी की भांति विद्यालय में शिक्षक की तरह ,घर में माता और गुरुजन की तरह तैयार करके समाज के समक्ष  प्रस्तुत करती हूं। मेरे विचार मेरी निजी संपत्ति है । मेरा मेरे विचारों पर पूर्ण अधिकार है । अगर मेरे विचार किसी के कहने देखने और बहकाने  से भड़कते हैं तो इसका तात्पर्य  मैं कमजोर हूं  गुलाम हूं ,मुझे अपने विचारों पर अपना नियंत्रण करना ही नहीं आया । अतः मेरा तो यही मानना है पहले स्वयं के विचारों पर नियंत्रण करना सीखिए । किसी अन्य को दोष देने से कुछ नहीं होगा । अपने विचारों को इतना श्रेष्ठ बनाइए की बदल जाए   दुनियां आपके विचारों से प्रेरित होकर ।

*लेखनी भाव सूचक*

"लेखनी"अक्सर यही कहा जाता है ,की लेखनी लिखती है
जी हां अवश्य लेखनी का काम लिखना ही है ।
या यूं कहिए लेखनी एक साधन एवम् हथियार की भांति अपना काम करती है। लेखनी सिर्फ लिखती ही नहीं ,लेखनी बोलती है ,लेखनी कहती है ,लेखनी अंतर्मन में छुपे भावों को शब्दों के रूप में पिरोकर कविता,कहानी,लेख के रूप में परोस्ती है।
समाजिक परिस्थितियों से प्रभावित दिल के उद्गारों के प्रति सम भावना लिए लेखक की लेखनी -- वीर रस लिखकर यलगार करती है,लेखनी प्रेरित करती है देश प्रति सम्मान की भावना जो प्रति जन-जन में छिपी  देश प्रेम की भावनाओं को जागृत कर देश के शहीदों के प्रति सम्मान और गर्व का एहसास कराती है ।
वात्सल्य रस, प्रेम रस,हास्य रस,वीर रस ,लेखनी में कई रसों के रसास्वादन का रस या भाव होते हैं ।
महापुरुषों के जीवन परिचय को उनके साहसिक एवम् प्रेरणास्पद कार्यों को एक लेखक की लेखनी स हज कर रखती है ,और समय -समय महापुरुषों के जीवन चरित्र पड़कर जन समाज का मार्गदर्शन करती है ।
लेखनी का रंग
जब एहसासो के रूप में
भावनाओं के माध्यम से
काग़ज़ पर संवरता है
और जन-मानस के हृदय को
झकझोर कर मन पर अपनी छाप छोड़ता है …

मधुर राग *****

लिखने जो बैठा मधुर राग  खुलने लगे कई राज लब गीत गुनगुनाने लगे चेहरे मुस्कराने लगे हृदय ने छेड दी  तान
बजने लगे साज
आज बस में नहीं मेरे जज़्बात

आज फिर हृदय तरंगों में सुनाई
दे रहे है कई  शुभ संकेतों की पदचाप

फिजाओं में बिखरी है मंद मंद सुगंध
मन मयूर नाचे दसों दिशाओं में
फैल रहा है प्रकाश का स्वर्ण
गुनगुना रहे हैं भंवरे स्वछंद

मीठी सी कसक
चेहरे पर बिखरी है चमक
प्रफुल्लित है दिल ए गुलाब
सुनाई दे रही है मीठी सी खनक
सोलह कला सम्पूर्ण है पूर्णिमा का आफताब.....






*पदचाप जिसने बढ़ाया रक्तचाप*

उस पल उस "पदचाप" की आवाज सुनकर जो मेरा रक्तचाप बड़ा था ,वो रक्तचाप आज भी बड़ने लगता है जब वो पल मुझे याद आता है ।
 आज भी मेरे रोंगटे खड़े हो जाते हैं आखिर मुझे उस दिन इतना डर क्यों लगा , मैं इतनी डरपोक तो नहीं फिर भी ऐसा क्या हुआ उस दिन जो मैं भी डर गयी थी।
 यह बात सच है की कोई भी मनुष्य कितना भी ब हादुर क्यों ना हो परन्तु उसके दिमाग के कोने में एक डर अवश्य छिपा होता है ।
उस दिन लगभग रात्रि दो बजे की बात होगी, मुझे प्यास लगी थी ,यूं तो हर रोज रात्रि शयन से पहले मैं एक गिलास पानी अपने कमरे में रख लेती थी लेकिन उस ना जाने क्यों पानी रखना भूल गई ,प्यास बहुत तेज थी मूंह सूख रहा था मैं पानी लेने के लिए रसोई घर की और चल दी ।  हमारे घर में बालकनी से होकर सीढ़ियां ऊपर की और जाती हैं ,तभी मुझे सीढ़ियों में कुछ आवाज सुनाई दी पायल खनकने की ,मैंने न नजरअंदाज  किया ,और अपना पानी लेकर पीने लगी , मैं पानी लेकर अपने कमरे में जा रही थी ,तभी सीढ़ियों में से कुछ गिरने की आवाज अाई और मैं डर के मारे कांप गई ।
  अरे भाभी आप पानी लेने आयी थी , मैं भी अभी यहां से पानी लेकर गई जाते हुए जग का ढ़क्क…

** जीवन की ऊंचाईयां**

*ऊंचाइयों पर पहुंचेगा अवश्य आचरण की सभ्यता का संग जीवन में श्रेष्ठ विचारों का रंग सत्य और सरलता की मशाल विश्वास की डोर थाम ... कहीं समतल,कहीं खाई कहीं जंगल तो कहीं विशाल पर्वत चट्टानों सी अडिग बाधाओंं की जंजीरों की बेड़ियां पत्थरों की ठोकरों से लहूलुहान तुम हार मत जाना नकारात्मकता के अंधेरे में घिर मत जाना सकारात्मकता की ज्योत से अडिग निडर हर बाधा से लड़ जाना तेरे परिश्रम का फल तू एक दिन अवश्य पाएगा श्रेष्ठ विचारों की पूंजी से तेरा जीवन सर्वत्र पूजा जायेगा ।

*अभी ना होगा तेरा अंत ,अभी तो तू जन्मा है *

* अभी तक तो तू सोया था
मद के सपनों में खोया था
अभी ना होगा तेरा अंत
अभी तो हुआ है तेरा जन्म
करके वसुन्धरा को नमन
आत्मा से बोल वन्दे मातरम्

मानवता कराह रही है
फैल रहा है कूटनीति का जहर
आतंकियों रूपी रक्तबीजों का उत्पाद
करने को निशाचरों का नाश
हो सिंह पर सवार
बन चंडी दुर्गा और काली
उठा त्रिशूल और बचा मानवता की लाज....
परशुराम बन उठा फरसा और
उखाड़ फेंक जहरीले बीजों को काट..

अधर्म पर धर्म की जीत
असत्य पर सत्य की जीत
रामराज्य स्थापित करना है फिर से
घर -घर माखन मिश्री की रस धार बहे
पन्ना धाय सी हर माता हो
मदर टेरेसा सा निस्वार्थ सेवा धर्म हो
घर-घर प्रेम का मन्दिर हो
अभिवादन हो सबका अथिति सत्कार
*सोने की चिड़िया*बनने को फिर से उत्सुक है
भारत माता के सिर सुशोभित रहे विश्व गुरु का ताज ।