संदेश

February, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

*प्रेम ही शाश्वत है *

"माना कि आज नफ़रत
 प्रेम पर भारी है
परंतु नफ़रत की तो सिर्फ
कंटीली झाड़ियां हैं
प्रेम तो वो शाश्वत बीज है
जो किसी भी मनुष्य का
आंतरिक स्वभाव है *
"माना की आज नफ़रत के
आतंक ने तांडव मचा रखा है
ये तो सिर्फ आंधियां हैं
प्रेम की जड़ों की पकड़
धरती पर गहरी हैं
हम तो सूर्य का वो तेज़ हैं
जिसके आगे किसी की भी
कोई बिसात नहीं
प्रेम ही शाश्वत था और रहेगा।



विरासत की संपत्ति

**विरासत की संपत्ति***
     मेरे देश की संस्कृति अदभुत अमूल्य
     अतुलनीय है
     भारत भूमि के आभा मंडल में
     अद्भुत ,अद्वितीय संस्कारों रूपी रत्नों
     की भरमार है ,बाल्मीकि ,कालिदास
     सूरदास , एकलव्य ,ध्रुव ,कबीर आदि
      इसके उदाहरण हैं
  * मेरे देश की संस्कृति के तो क्या कहने
     यहां विरासत में उच्च संस्कारों
     वाली शिक्षा
     का धन दिया जाता है
     यह धन अमूल्य है
     और यह कभी नष्ट नहीं होता ।
     मेरे देशवासियों के  हौसलें     
     तूफानों और आंधियों में
     और बुलंद हो जाते हैं
     उच्च विचारों की संपत्ति से
     चहरे पर स्वाभिमान ,और
     आत्म    विश्वास
     की चमक आ जाती है ।
     नहीं सीखा हमनें विचारों में
      जहर घोलना
     हम हिन्दुस्तानी आतंक की जहरीली
     खेती नहीं करते ,परंतु जो जहर
     फैलाते हैं उन्हें जड़
     से उखाड़ फैंकते हैं ।
     हम उस देश के वासी हैं जहां नदियों
     में अमृत बहता है , वृक्षों और,पर्वत भी
     पूजे जाते हैं
     यज्ञ की अग्नि को साक्षी मान
     जब -जब पूर्ण श्रद्धा से आहुतियां
     डाल स्वाहा किया जाता है
     तब…

**बेकरार दिल **

*बेकरार दिल को करार
आये कैसे जो अपना था
चला गया इस दुनियां से
से कहीं दूर  *****
जिसके आने की
कोई उम्मीद ही नहीं
फिर भी ना जाने क्यों
और किसका इंतजार
क्या करे ये दिल बेकरार....
दिल की बेकरारी
भी क्या कहिये
जो अजीज है
वो नसीब नहीं
जो करीब है
वो अजीज नहीं
जिंदगी अपनी
सपने अपने
सपनों में रहता
कोई और है
तराना अपना
फसाना अपना
गुनगुनाता कोई 
और है
दिल अपना
चाहते अपनी
चाहतों में निशानी
किसी और की
नींदें अपनी
सपने किसी और के
दर्द अपना
दवा बनता कोई और है
जिंदगी का फसाना भी अजीब है
जो अजीज है वहीं नहीं बन पाता
नसीब है
नसीब की बात भी क्या कहिए
जो पास है ,उसे दिल चाहता नहीं
जिसे दिल चाहता है ,वो नसीब में नहीं ।


* ज़रा संभल कर *

संभल कर चलना यहां चेहरों पर मुखौटे लगे हैं इंसानियत का रंग बदल गया है
शायद खून में भी हैवानियत की
मिलावट है ,काश कोई ऐसा
प्रयोगशाला हो ,जिसमें मन में
क्या छिपा है पता चल सके
किस के मन में क्या चल
रहा है ।
मत करो ये खून में मिलावट
ना घोलो विशेला जहर नस्लों
में अगर नस्ले ही जहरीली होंगी
तो एक दिन ऐसा आएगा
वो सब कुछ जहरीला कर देंगी ।
परंतु एक दिन ऐसा भी आएगा
कि जहर ही जहर का खात्मा करेगा ।
फिर बचेगा तो सत्य .....
कृपया अपनी नौनिहालों को
उच्च संस्कारों वाली शिक्षा देना
सभ्य सुसंस्कृत विचारों की ऐसी शिक्षा
जिसके गुणों के प्रभाव के आगे किसी भी तरह
का उजाला


"आतंकवाद के जहरीली नस्लों का अब अंत करो "

आतंकवाद के जहरीली नस्लों का अब अंत करो "

उखाड़ फेंखो आतंकवाद की जहरीली खेती को
इन जहरीले बीजों का अंत करो
वरना सारी धरती जहरीली हो जायेगी
एक बार फिर आंकवाद के इस जहरीले
जहर ने ड्स लिया भारत मां के कई
वीर सपूतों को ,धरती मां कांप रही है ......
आने वाला है ,कोई जलजला
शिव को फिर से आना होगा
धरती पर, तांडव दिखाना होगा
उठा त्रिशूल ,करो अंत आतंक का
फिर से त्रस्त हो रही धरती
फिर से कराह रहा है मानव
जिन नस्लों में जहर फैल चुका है
उन नस्लों का संहार करो
पीकर जहर फिर से इस धरती
को आंकवाद मुक्त करो
या कोई ऐसी राह बता आतंकवाद को
जड़ों से उखाड़ फेंकूं एक -एक जहरीले
बीज का अंत करूं
नए बीजों में परस्पर प्रेम ,अमन चैन ,का अमृत भरूं ।

( श्रद्धांजलि देश के वास्तविक नायकों को देश के वीर सिपाहियों को)

*मेरी मोहब्बत *

यूं तो मैं भी मोहब्बत के काफिले
में कब से शामिल था
किन्तु मोहब्बतें इज़हार
करने से डरता था कहीं कोई
मेरी मोहब्बत की चर्चा सरेआम ना कर दे
मेरी पाक मोहब्बत को बदनाम ना कर दे
मेरी मोहब्बत मेरी इबादत है ।
**सजदा करता हूं  बार-बार ,जिधर देखूं  सजदे में मेरा सिर झुक जाता है  क्या करूं ,मुझे उसके सिवा कुछ  नज़र ही नहीं आता  ना जाने ये मेरी निगाहों  का धोका है,या मेरा  पागलपन ,राह में चलते हर  जन में मुझे वो ही नज़र आता है  जब से वो मेरे दिल के द्वार
से मेरे हृदय में घर कर गया है
मेरा घर भर गया है
मोहब्बत से भरा खुशियों का
गुलदस्ता लिए ,वो मेरी रूह को
ऐसी संजीदगी से दुआ दे जाता है
रूह ए चमन  महक जाता है
में उसकी मोहब्बत में पागल हूं
जमाने को पता है
वो मेरा रब ,मेरा ख़ुदा ज़माने से जुदा है
जमाने से जुदा है, क्योंकि वो ख़ुदा है***


*अयोध्या और राम मंदिर *

***********************************   हिन्दुस्तान ****
   हिन्दू संस्कृति ,
    माना की हिंदुस्तान धर्मनिरपेक्ष देश है ,हमारे देश     में हर धर्म को सम्मान मिलता है कोई भी धर्म ,अपने कायदे -कानून से अपना जीवन जी सकता है ।    **फिर भी हिंदुस्तान, हिन्दू धर्म ,हिन्दू संस्कृति ही इसकी पहचान है फिर अपने ही देश में अपनी संस्कृति, को हम सम्मान नहीं दिला पा रहे तो ,यह बड़ा दुखदाई विषय है ।

*******" श्री राम चरित मानस " हिन्दू धर्म की की धरोहर, हिन्दुओं की संस्कृति ,आस्था ,श्रद्धा विश्वास ***
 **अयोध्या में राम मंदिर ना बन पाना हिदुओं की श्रद्धा आस्था ,और विश्वास के साथ खिलवाड़ है ।

 *श्री राम सीता *हम हिन्दुओं की आस्था ,हमारे भगवान हैं। कोई भी धर्मिक कार्य हो तो हम हिन्दू अपनी आस्था के प्रतीक धर्म ग्रंथ , श्री *रामचरितमानस*का पाठ बड़े विधि विधान से करवाते हैं ,उस ग्रंथ में विदित है ,की सतयुग में अयोध्या में राजा दशरथ के यहां चार पुत्रों ने जन्म लिया था , श्री राम ,लक्ष्मण ,भरत ,शत्रुघ्न, कोई भी हिन्दू इस धर्म ग्रंथ से अछूता नहीं है ।
 फिर अयोध्या में राम मंदिर पर विवाद .....
 ये र…

**फुर्सत के पल**

*******
 फ़ुर्सत के कुछ पल
 बैठा था ,सलीके से
 हरी घास के गलीचे पर
 दिल में बेफिक्री थी
 शायद यही सच्ची खुशी थी ।
 पक्षी भी अपनी आजादी का
 आगाज़ रच रहे थे , दाना चुग
 रहे थे ,नील गगन की ओर
 ऊंची -ऊंची उड़ान भर रहे थे।
मौसम बड़ा सुहाना था
शायद प्रकृति का दिल भी
दीवाना था , धरती भी
स्वयं के श्रृंगार से प्रसन्नचित्त थी
क्यारियों में पुष्पों की बहार थी
सुंगधित समीर का वेग मन भावन
प्रसन्नचित ,प्रफुल्लित ,बसंत का आगमन
याद आ गया था ,
फिर वो अल्हड़ बचपन
ना चिंता, ना फिक्र ,
बस मस्तियों का जिक्र
 सपनों की ऊंची उड़ाने
क्या खूब थे ,वो **बचपन के जमाने **



*मंजिले राह इतनी आसान नहीं **

*क्योंकि मेरी मंज़िल का रास्ता यहीं से होकर गुज़रता है *


“ डर जाता हूँ , अक्सर टेड़े - मेड़ें रास्ते देखकर
क्योंकि मेरी मंज़िल का रास्ता यहीं से होकर
जाता है , चलता रहता हूँ , चोट खाता हूँ ,
ज़ख़्मी भी होता हूँ ,
पर ठहरता नहीं ....
कभी विशाल पर्वत, तो कभी गहरी खायी ,
क्योंकि मेरी मंज़िल का रास्ता ऐसी ही राहों से
होकर गुज़रता है , चलना पड़ता है ,
कभी सोचता हूँ , लौट जाऊँ , राहें बड़ी कँटीली हैं
मंज़िल भी दूर तक नज़र नहीं आती .........
ऐसा नहीं कि मैं डरपोक हूँ ...
परन्तु फिर भी ...
कभी - कभी ऐसा सोचता हूँ
क्यों मेरे ही हिस्से में तमाम मुश्किलें आयी
एक समय था , मैं था और गहरी खायी
ज़िन्दगी और मौत की हो रही थी लड़ाई
तभी किसी की कही बात याद आयी
गहरायी में ही मिलते हैं , हीरे जवाहरात
तू करता रह खुदायीं ,जितनी अधिक होगी
गहरायी , उतनी ही उन्नत होगी तेरी ज़िन्दगी की
मंज़िलों की ऊँचाई।
****ज्यों कल्प वृक्ष सदैव हरा -भरा रहता व् सदाबहार रहता है
**नदियों नीर देती रहती हैं और निरंतर संघर्ष करते हुए आगे बड़ने की प्रेरणा देती रहती हैं ।*
*पर्वत अपने लक्ष्य में अडिग खड़े रहने की शिक्षा देते हैं ,इसी तरह इस सम्पूर्ण संसार के ज्ञान के अमृत का कलश हर -पल बड़ता रहे ,भरा रहे यही उद्देश्य है ,हमारा।।
*क़ामयाबी*💐💐💐💐

*कामयाबी * अपने-अपने जीवन में हर कोई सफ़ल होना चाहता है । और हर किसी के लिए कामयाबी के मायने अलग-अलग हैं। आज के आधुनिक समाज में कामयाबी के मायने सिर्फ ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाना रह गया है ,वैसे देखा जाये तो ठीक भी है जिसके पास जितना अधिक धन दौलत होगी वो बेशर्ते कामयाब है ,क्योंकि वो अपने पैसे के बल पर दुनिया के सारे सुख हासिल कर सकता है ।
पर हाँ एक चीज जो बहुत अनमोल है और जिससे वास्तव में सुख मिलता है वो है मन की शांति जो धन से नहीं मिलती ,हाँ कुछ समय के लिए आपका मन बहला सकती है ,और फिर वही अशान्ति।
वास्तविक शांति मिलती है जो आपका दिल कहे वो करो जिससे किसी का बुरा न हो धन कमाइये पर अपनी खुशियों को दांव पर रख कर नहीं कहीं कल ऐसा ना हो जिन खुशियो के लिए आपने आज अपनी खुशियाँ दाव पर लगायी ,वो खुशियाँ जीने का जब समय आये तब आपके पास सम ना बचे ।

मेरे लिए तो कामयाबी वो है जहां काम करने में मुझे और मेरी आत्मा को सुकून मिल, मेरे और मेरे समाज के हित मे हो।

मेरा जीवन सफल है ,अग़र मैं जो भी लिखूँ वो कहीँ किसी एक का भी मार्गदर्शन करता हो ,वही मेरे लिए मेरी सच्ची कामयाबी है ।