* ज़रा संभल कर *

  1.   संभल कर चलना यहां चेहरों पर मुखौटे लगे हैं
इंसानियत का रंग बदल गया है
शायद खून में भी हैवानियत की
मिलावट है ,काश कोई ऐसा
प्रयोगशाला हो ,जिसमें मन में
क्या छिपा है पता चल सके
किस के मन में क्या चल
रहा है ।
मत करो ये खून में मिलावट
ना घोलो विशेला जहर नस्लों
में अगर नस्ले ही जहरीली होंगी
तो एक दिन ऐसा आएगा
वो सब कुछ जहरीला कर देंगी ।
परंतु एक दिन ऐसा भी आएगा
कि जहर ही जहर का खात्मा करेगा ।
फिर बचेगा तो सत्य .....
कृपया अपनी नौनिहालों को
उच्च संस्कारों वाली शिक्षा देना
सभ्य सुसंस्कृत विचारों की ऐसी शिक्षा
जिसके गुणों के प्रभाव के आगे किसी भी तरह
का उजाला


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "