☔️⛈“सावन के झूले “⛈☘️🌿

   🌧🎡“सावन के झूले पड़े थे 
    मन्त्रमुग्ध सब झूल रहे थे 
   वसुन्धरा से अम्बर की ओर पींगे भर रहे थे “
   तभी .......
“अम्बर ने “वसुन्धरा”को जब निहारा 🌎
🌧मेघों से घिर गया अम्बर सारा “
मेघों ने सुन्दर - सुन्दर आकृतियाँ बनायीं ☁️⛈
जो सबके मन को लुभायीं “
बिजली भी चमकी .....
फिर छम के बरसा छम -छम के बरसा 
🌧⛈अम्बर से मेघों का बन ,वर्षा का जल सारा 
वसुन्धरा  भी प्यासी तृप्त हुईं 
हरी-भरी धरती प्रफुल्लित हुई ,
कोयल ने भी सुमधुर संगीत सुनाया 
मयूर ने भी नृत्य से मन लुभाया ।

वृक्षों की डालियों ने बाँहें फैलायी 🌴
प्रकृति ने आवाज लगायीं 
सावन की रिमझिम वर्षा है आयीं ☔️
चलो सखियों झूलन की ऋतु है आयी 
सुख -समृद्धि और सम्पन्नता का संदेशा लायी ।🎄🌴🍃🍀
धरा ने अम्बर कीओर निहारा 
और कहा तुमने तो भिगो दिया 
मेरा आँचल सारा,सुखी पड़ी धरती
को तुमने तृप्त किया ।
तुमसे ही मेरा जीवन समृद्ध हुआ 
सम्भव नहीं है , तुम बिन जीवन हमारा 
जबकि तु एक किनारा मैं एक किनारा 
हमसे ही तो सृष्टि का अस्तित्व सारा ।☔️☔️🌧







टिप्पणियाँ

  1. प्रेम दोनों किनारों को भी मिला देता है ...
    सावन में सम्भव है सब कुछ .।।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सादर आभार दिगम्बर नवासा जी ये तो मन के भाव हैं जिस और मोड़ दो ..........

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 12 अगस्त 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रिय यशोदा दीदी सर्वप्रथम हरियाली तीज की बधाई
      और मेरे द्वारा सृजित रचना को पाँच लिंकों के आनन्द में सम्मिलित करने हेतु आभार

      हटाएं
  3. सावन का बहुत ही रोचक प्रस्तुतिकरण, रितु।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर सावन की अद्भुत छटा।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी कुसुम जी सावन का मौसम बढ़ा हाई मनभावन होता है

      हटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

"आज और कल"