*****स्वयं का नेतृत्व ****

 💐💐   कौन किसके हक की बात करता है
    अपने कर्मों की खेती स्वयं ही करनी पड़ती है
    स्वयम ही स्वयम को प्रोत्साहित करो
    काफिले में सर्प्रथम तुम्हे अकेले ही चलना पड़ेगा
     जीत तो उसी की होती है ,जो स्वयम ही स्वयम का
     नेतृत्व करता है।💐💐

** मैंने उस वक्त चलना शुरू किया था
     जब सब दरवाजे बंद थे ,
     पर मैं हारमानने वालों में से कहाँ था
     कई आये चले गए ,सब दरवाजे बंद है
     कहकर मुझे भी लौट जाने की सलाह दी गयी ।पर ,

     मैं था जिद्दी ,सोचा यहां से वापिस नहीं लौटूंगा
     टकटकी लगाये दिन-रात दरवाजा खुलने के इन्तजार
    मैं पलके झपकाए बिना बैठा रहता ,
    बहुतों से सुना था दरवाजा सालों से नही खुला
    पर मेरी जिद्द भी बहुत जिद्दी थी ।

   एक दिन जोरों की तूफ़ान आने लगा ,आँधियाँ चलने लगी
    मेरी उम्मीद ए जिद्द थोड़ी-थोड़ी कमजोर पड़ने लगी
   पर टूटी नहीं ,नजर तो दरवाजे पर थी
   तीर कमान में तैयार था , अचानक तेज हवा का झौंका          आया मेरे चक्षुओं में कोई कंकड़ चला गया ,
   इधर आँख में कंकड़ था , उधर आँधी से जरा सा
 दरवाजा खुला ।
😢
   आँख कंकड़ से जख्मी थी ,पर मैंने निशाना साधा मेरा तीर
   दरवाज़ा खुलते ही लग गया ,जीत मेरी जिद्द की थी  या मेरे विश्वास की जीत हुई मेरे संयम की ।

  इरादे अगर मजबूत हों और स्वयं पर विश्वास हो और आपके
  कर्म नेक हों तो दुनियाँ की कोई ताकत आपको जीतने से रोक नही सकती ।
कोई भी रास्ता आसान नही होता ,
उसे आसान बनाना पड़ता है ,अपने
नेक इरादों सच्ची मेहनत लगन और निष्ठा और संयम से ।

टिप्पणियाँ

  1. वाह्ह्ह रितु जी, प्रेरणादायक पंक्तियाँ👌👌

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी श्वेता जी आपकी टिप्पणी उत्साह को बढ़ाने में बहुत सहायक होती हैं और बहुत मायने रखती हैं ।

      हटाएं
  2. जीवन का मार्ग सुगम बनाते मार्गदर्शक शब्द। वाह ऋतु जी लिखते रहिये। आरम्भ में दूसरा शब्द "कसके " कृपया जाँच लें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी रविन्दर यादव जी आप सब की टिप्पणीयाँ मार्गदर्शन हेतु बहुत उपयोगी हैं ,आभार

      हटाएं
  3. सत्य कहा आदरणीय ,यदि स्वयं में विश्वास हो तो मनुष्य क्या नहीं कर सकता ,उसे अकेले ही चलना पड़ता है कारवां तो बन ही जाते हैं ,उम्दा सोच ! प्रेरणा दे रही हैं आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद ध्रुव एकलव्या जी आप का प्रोत्साहन आगे बढ़ने मैं बहुत सहायक है ,आभार ।

      हटाएं
  4. इरादे अगर मजबूत हों और स्वयं पर विश्वास हो और आपके
    कर्म नेक हों तो दुनियाँ की कोई ताकत आपको जीतने से रोक नही सकती ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा पुरषोत्तम जी स्वयं में विश्वास के साथ मेहनत और लगन भी अति आवयशक है । आभार

      हटाएं
  5. रितु बहुत ही प्रेरणादायक रचना। यदि इंसान को स्वयं का नेतृत्व करना आ जाए तो दुनिया मे उसका नेतृत्व करने वाला कोई नही रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ज्योति आपकी टिप्पणी मेरा मार्गदर्शन के लिये बहुत उपयोगी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही प्रेरणादायी रचना....
    सही कहा स्वयं का नेतृत्व स्वयं करना होगा....
    लाजवाब...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आभार सुधा जी आपका प्रोत्साहन मार्गदर्शन के लिए बहुत उपयोगी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर भाव से सजी रचना है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वयं में विश्वास ही कुंजी है सफल जीवन की ... निराशा के बादल भी स्वयं के पुरुषार्थ से ही छटते हैं ... बहुत ही आशा वादी और प्रेरक शब्दों से बुनी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीय दिगाम्बर नवासा जी आभार सहित धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

**औकात की बात मत करना **

*****उम्मीद की किरण*****