*अक़्स*



एक तस्वीर खींचनी है मुझे 

जो समाज का आईना हो

जो कोई भी उस तस्वीर को

देखे उसे अपना अक्स नज़र आए

हर कोई आईने में देख अक्स अपना

स्वयं को सुधारना चाहे निखारना चाहे 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "