*परियां और उनकी रहस्यमयी दुनियां *

अरे वाह!
    इतना सुन्दर क्या है यह किसी रथ सा प्रतीत होता है ,चार श्वेत मखमली अश्व जो रथ के आगे खड़े थे ,अरे वाह श्वेत मखमली हंस,कोई चमत्कारी रथ लगता है यह.....

   इतने में हवा के संग मीठी सुंगध की लहर सारे वातावरण को महका गई ,सब कुछ रहस्यमयी सा प्रतीत हो रहा था ,तभी मीठी आवाज में हंसने ,खिखिलाने की गूंज से वातावरण और भी मीठा हो गया ,उत्सुकतावश मैंने उस हंसने की आवाज का पीछा किया ...कुछ दूर चलने के बाद मैंने पेड़ों की ओट से देखा श्वेत मखमली वस्त्रों में जिनके कोमल-कोमल से श्वेत पंख भी हैं ,विहार कर रही हैं कुछ झरने के निर्मल जल में स्नान कर रही हैं कुछ पुष्पों को क्यारियों में तितलियों को भांति उड़ रही हैं ,बहुत ही सुंदर दृश्य था , मैं स्वप्न लोक की परियों को साक्षात देख पा रही थी , एक बार को सोचा जाकर उनसे मिली कुछ बातें करूं .... फिर लगा कहीं यह मेरी आहट सुनकर लुप्त ना हो जाए , अब तो मुझे
मुझे यकीन हो गया था यह परियां उसी रथ में बैठकर  आयी हैं । मैं रथ की समीप जाकर छुप गई और परियों के आने का इंतजार करने लगी , आसमान की तरफ देखा तो आसमान में तारे  टिमटिमा रहे थे ,चन्द्रमा भी सोलह कला संपूर्ण अपनी श्वेत मखमली चांदनी से संपूर्ण वातावरण को रहस्यमयी  बना रहा था ,समय था रात्रि के दो बजे पर मेरी आंखों में नींद कहां थी , मैं तो परियों के आने के इंतजार में बिना पलके झपकाए बस बैठी थी ।
  रात्रि का समय था कब आंख लग गयी पता भी नहीं चला ।
जब आंख खुली तब सब कुछ एक स्वप्न सा प्रतीत हुआ ...... तभी याद आया अरे मैं तो बगीचे में थी ,परियों का इंतजार कर रहा थी ,फिर सोचा क्या वो सच में परियां थीं ,या फ़िर मेरा भ्रम ,एक सुन्दर सपना ।
  अरे ये मैं कहां हूं ,ये मेरा घर जैसा तो नहीं ..... मैं कहां हूं ,मेरा दिल जोर -जोर से धड़कने लगा ,फिर इधर -उधर ताकने लगी ,यहां तो कोई भी नहीं , मैं कहां आ गई कहीं मैं रात में मर तो नहीं गई और मेरी आत्मा यहां आ गई ,मेरा शरीर घर पर मेरे पलंग पर पड़ा होगा जब मैं बहुत देर तक नहीं उठूंगी तो मेरे घर वाले मुझे उठाने का प्रयास करेंगे ,मेरे शरीर को देखकर मुझे मृत पड़ा सोच कर दुखी हो रहे होंगे ,चीखेंगे -चिल्लाएंगे ,फिर कुछ लोगों के कहने पर मेरे निर्जीव शरीर को जला दिया जाएगा ,नहीं ऐसा नहीं हो सकता मुझे जल्द से जल्द अपने घर जाना होगा अगर मेरा शरीर ही नहीं रहा तो मेरी आत्मा भटकेगी ,यह मैं कहां आ गई चलो घर जाने का रास्ता ढूंढ़ती हूं ।
   बहुत ही काल्पनिक , रहस्यमयी दुनियां में थी मैं ,सिर्फ श्वेत मखमली बादल ना वहां से आने का रास्ता ना जाने का मैं, जितना भी आगे बड़ने का प्रयास करती सव्यं को बादलों के बीच घिर हुआ ही पाती *****
   माना की सब कुछ बहुत मनमोहक था पर वहां करने के लिए कुछ भी नहीं था ,किस से बात करूं क्या करूं  समझ नहीं आ रहा था .....
तभी मैंने एक आवाज लगाई ,यहां कोई है ये मैं कहां हूं ......भगवान जी आप कहां रहते हो ...... हे भगवान धरती पर लोग कहते हैं की आप आसमान में कहीं रहते हो , पर कहां मैं जानती हूं कि आप सच्चे लोगों को दिखते हो ,जाने -अनजाने मैंने बहुत गलतियां की होगी पर मैंने किसी के साथ बुरा  नहीं किया कभी भी ,भगवान मुझे दर्शन दो ,और बताओ मुझे यहां क्या करना है ..... हे भगवान आपको आना ही होगा .....मेरा ऐसा कहते ही बादलों के बीच से चीरते हुए एक आभा आ गई ...प्रकाश ही प्रकाश उस आभा से दिव्य प्रकाश निकल रहा था .... मैं हाथ जोड़कर खड़ी हो गई क्योंकि मैंने जो सुना था भगवान दिव्य आलौकिक तेज प्रकाश का स्वरूप हैं ........... मैं ॐ नमो शिवाय का जाप करने लगी ....तभी उस दिव्य तेज में से निर्मल श्वेत वस्त्र श्वेत चांदनी से चमकते उसके पंख उसके हाथ में एक सुनहरी छड़ी थी उस छड़ी में से तेज प्रकाश निकल रहा था ......में स्तब्ध क्या करूं ,क्या कहूं ....
तभी वो जादू की छड़ी वाली परी बोली , तुम धरती से  आयि हो वैसे तो जीते जी और हम परियों के इच्छा के बिना कोई यहां नहीं आ सकता पर अब तुम आ गई हो तो अब तुम यहीं रहोगी हमारी मेहमान बनकर अब तुम धरती पर वापिस नहीं जा सकती ....तुम्हें कम से कम सौ वर्ष तक यहां रहना होगा ....फिर यहां रहते -रहते तुम हमारे जैसी हो जाओगी और हम तुम्हें सौ साल बाद अपनी तरह परी बना देंगे .....परी तक तो ठीक था,परंतु सौ साल का वक्त तो बहुत लम्बा होता है ,सोच कर दिल घबराया......धरती पर अपने घर की और घर वालों की याद आने लगी .........मां ,बाबा, बहन -भाई सब मुझे ढूंढ़ते होंगे परेशान होंगे मेरे लिये ....... मेरे वापिस लौटने पर मुझे कितना गुस्सा करेंगे ,उनके उस गुस्से में भी प्यार होगा , पर मैं वापिस कैसे जा पाऊंगी ।
  मैंने परी जी से कहा आप बहुत अच्छी हैं ,मुझे नहीं बनना परी ,मुझे माफ़ कर दो पता नहीं मैं यहां कैसे आ गई आप  मुझे धरती पर वापिस भेज दो ...
 परी जी बोलीं देखो अब धरती पर कभी नहीं जा सकती ,तुम्हारे लिए यही अच्छा रहेगा की तुम यहीं रहो और हमारे जैसा रहना सीखो इस काम के लिए तुम्हारे साथ एक परिचायका तुम्हारे साथ रहेगी .....
 मेरे बस में कुछ नहीं था आखिर मुझे उन परी जी की बात माननी पड़ी .....
  परियों की जिन्दगी ही अलग होती है वो तो खाना भी नहीं खाती पानी भी नहीं पीती ,उनका तो हर काम जादू से हो जाता था ।
 लेकिन एक परीचा यिका जो मेरे साथ के लिए थी उसने मुझे प्यार से अपने पास बिठाया और कहा मैं जानती हूं तुम धरती से अाई हो तुम्हें भूख -प्यास सब लग रही होगी लो कुछ खा लो पानी पी लो ...आज से कई सौ साल पहले भी तुम्हारे जैसी एक लड़की धरती से इसी तरह परीलोक में आ गई थी ,फिर वो भी वापिस ना जा सकी अब वो परी बन गई है ।
 मैंने पूछा तुम जानती हो मैं यहां कैसे पहुंची ,वो परी परिचायिका बोली हां मैं जानती हूं।
   मैंने पूछा कैसे वो,परी बोली हमारे रथ में तुम छुप कर बैठ गई थीं और तुम्हें नींद आ गई थीं
मुझे सब कुछ याद आ गया मैंने परी परीचायिका से कहा मुझे वापिस धरती पर अपने घर जाना है ...
परी ने बोला नहीं ये यहां के नियमों के खिलाफ है अगर तुम प्रयास भी करोगी तो तुम्हें ...सजा मिलेगी तुम्हें हवा में लटका दिया जाएगा और तुम झूलती रहना गिरती पड़ती हवा में .......अब कोई चारा भी नहीं था मुझे उसकी बात माननी पड़ी जैसा -जैसा वो परी परिचायक कहती मैं करने लगी ,कुछ बुरा भी नहीं था ,परंतु धरती जैसा भी नहीं था सब बहुत अच्छे थे ।
 जो बड़ी परियां थीं वो धरती पर कोई भोला -भाला मासूम अनाथ हो जाता था ,कभी -कभी उनके सपनों में जाती और उनकी मां बनकर उनसे बातें करती उन्हें सहलाती,यूं तो परियां बहुत प्यारी थीं फिर भी ....
कभी-कभी बड़ी परियों को धरती पर भी जाना पड़ता था ,किसी मासूम के लिए.....ऐसा ही किस्सा मेरे सामने भी हुआ जब मैं परीलोक में थीं ,अचानक एक परी अायी और बोली परी मां धरती पर एक मासूम बच्चा है जिसकी मां मर गई है और उसके पिता ने दूसरी शादी कर ली है ,अब वो दूसरी मां उस बच्चे के साथ बहुत बुरा व्यवहार करती है और उसकी पत्नी के कहने पर उसका पिता भी उस चार साल के बच्चे को मारने लगा है ,वो बच्चा बहुत ही मासूम है हरपल अपनी मां को याद करता रहता है...
परी मां आप को उस बच्चे के लिए एक बार धरती पर जाना होगा उसे मां के प्यार की बहुत आवयश्कता है ,परी मां ने कहा ,मेरा रथ तैयार करो मुझे धरती पर जाना है ।
मैं मन ही मन प्रसन्न हो गई मेरी परी परिचायक ने मेरी मदद की ,कहने लगी वैसे तो ये परीलोक के नियमों के ख़िलाफ़ है ,फिर भी हम परियां स्वभाव से सबकी मदद करती हैं ,अब जैसे तुम धरती से अाई थीं वैसे ही जाओगी ज्यादातर हम परियां रात में ही कहीं आती -जाती हैं ,जिससे हमें कोई निर्मल मन देख ना सके.. जैसे तुमने देखा ये तो यकीन है की तुम दिल की बहुत अच्छी हो ।
 आज रात को दो और तीन बजे के बीच परी मां का रथ धरती पर जाएगा जिसमें मैं भी होंगी ,तुम छुप कर नीचे वाले हिस्से में लेट जाना और जब धरती पर हमारा रथ रुकेगा ,तुम चुपके से निकलकर अपने घर चले जाना मैंने उस परी को धन्यवाद कहा .....
 धरती पर रथ रुकते ही मैं अपने घर पहुंची देखा मैं पलंग में लेटी हुई हूं मेरे आस-पास मेरे परिजन और डॉक्टर खड़े हैं ।
 इतने में मेरी आंख खुली घर के सभी सदस्य मुझे देखकर खुश हो गए ,सामने खड़ा डॉक्टर बोला ये तो चमत्कार हो गया ..मां भाई ,बहन सब ने मुझे प्यार से गले लगा लिया...

 तभी मुझे परी परिचाय का की छवि दिखाई दी ,वो दूर से देखकर मुझे मुस्करा रही थी मानों अपनों से मिलने की खुशी का एहसास था उसे भी।






टिप्पणियाँ

  1. बहुत सुंदर ख्व़ाब... सुखद अहसास भरा। बहुत सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  2. आभार अनुराधा जी रचना पड़ने और सरहाने के लिए नमन

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "