*उजाले की ओर......

संध्या का आना
देवालयों में दियों
की लौ का जगमागाना
घंटा ध्वनि और शंखनाद की गूंज
प्रार्थनाओं के स्वर
करते मन को पवित्र
आंगन ,मोहल्ले ,चौराहे
सभी उजाले से जगमगाए
मेरे मन का दीप अभी भी बुझा था
उसमे ना कोई आस बची थी
आशा का ना तेल कभी डला था
ना विश्वास की डोर बची थी
मेरे सूने मन का कैसे दीप जलाऊं
कैसे निराशा में आशा की किरण लाऊं
आखिर फिर एक बार उम्मीद का दिया जलाया
उसे नकारात्मक विचारों के भंवर से बचाया
तूफ़ान तो बहुत आया,
आंधियों ने मेरा हौंसला बहुत आजमाया ,
पर इस बार ना मैंने उम्मीद के
दिए को बुझने दिया अब जाकर
कहीं मेरे मन का अंधेरा दूर हो पाया
सकारात्मक विचारों का जब उजियारा फैलाया।






टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "