💐**बचपन से हमने देखा है**💐


 💐भारत की पृष्ठ भूमि पर हर 
 मज़हब शान से जीता है ।💐
 बचपन से हमने देखा है ,
 चाहे मुबारक* ईद* हो या* दीवाली *
 हमारे लिये अवकाश संग खुशियों  की सौग़ात का 
 तोहफ़ा होता है।💐💐
हम तो ईद हो या दीवाली सबमें प्रफुल्लित होते हैं ।
💐👍मुबारक ए ईद💐पर भी इबादत अमन चैन की  
   दुआ संग हर्षोल्लास से खुशियां बाँटी जाती है
   और जी जाती है।
 *दीपावली पर भी प्रभु प्रार्थना संग
  खुशियाँ बांटी जाती हैं ,और ज्ञान के
  प्रकाश का उजाला किया जाता है ।
  तातपर्य सभी का एक है ,अमन-प्रेम सुख -शांति का संदेश ।
💐💐रामायण, हो या कुरान सभी तो प्रेम संग 
भाईचारे का संदेश देते है ।
हमने तो बचपन से खुशियों को बाँटने की 
परम्परा निभायी है ।
ईद हो दीवाली हमारे चेहरों पर हर पल खुशी आयी है
हमने तो हर त्यौहार पर भाईचारे की रीत निभायी है ।

टिप्पणियाँ

  1. भारत की पृष्ठ भूमि पर हर
    मज़हब शान से जीता है ।💐
    बचपन से हमने देखा है ,
    चाहे मुबारक* ईद* हो या* दीवाली *
    हमारे लिये अवकाश संग खुशियों की सौग़ात का
    तोहफ़ा होता है।💐💐

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ख़ूब ! आदरणीय सत्य वचन है सभी धर्मों का केवल एक उद्देश्य अमन और शांति सुन्दर रचना एकता का सन्देश देती। आभार ,"एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. अमन का सन्देश फैलाती आपकी भावपूर्ण रचना सामयिक है ऋतु जी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्य कहा रामायण हो या कुरान सभी प्रेम संग भाईचारे का संदेश देते हैं....
    बहुत ही सुन्दर...
    अनेकता में एकता की सूचक...

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

"आज और कल"

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉