💐💐**संघर्ष -यानि संग-हर्ष जियो **💐

 
*जीवन है तो संघर्ष है *
यूं तो प्रकृति प्रदत्त सब और सम्पदा है 💐
जीवन को तो जीना है ,क्यों ना फिर
संग-हर्ष जियो ।💐
 समय का पहिया घूम रहा है
  युग परिवर्तन हो रहा है ।
  परिवर्तन प्रकृति का नियम है ।
  अविष्कार भी आवश्यकता का कारण है
  मानव बुद्धि में उपजे अणुओं ,
  मानव की दिव्य आलौकिक बुद्धि
  ने दुनियाँ को नये-नये आयाम दिये हैं
 आकाश क्या अन्तरिक्ष  में भी मानव के
 कदम पढ़े है ।
 वो चाँद जिसकी खूबसूरती को मनुष्य निहारता है
गजलें और नग़मे बनाता है ,जिस चाँद को देख महिलाएं
व्रत उपवास पूर्ण करती हैं ,उस चाँद पर जाकर वैज्ञानिक
सत्य परख आया है ।💐
मनुष्य का जीवन प्रग्रति यानि आगे बढ़ते रहने का नाम है
रुक गया तो थम गया
जीवन का अन्त हो गया ,संघर्ष जीवन का मंत्र है ।
खुशहाल जीवन का यंत्र है ।💐💐💐💐

टिप्पणियाँ

  1. सत्य कहा आदरणीय जीवन का पहिया घूमता रहता है, परिवर्तन संसार का नियम है तो जीवन को सहर्ष जीना ही सच्चा विकल्प है अलंकृत शब्दों से जीवन के मूल्य बताती रचना सुन्दर ! आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ध्रुव सिंह एकलव्या जी टिप्पणी द्वारा उत्साह वर्जन के लिये धन्यवाद ।

      हटाएं
  2. संघर्ष यानि संग हर्ष जियो बहुत बढ़िया व्याख्या।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ज्योति जी टिप्पणी द्वारा उत्साह वर्जन के लिये धन्यवाद ।

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/06/24.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Rakesh kumar shrivastav Rahi ji, धन्यवाद ,आभार मेरी लिखी रचना को मित्र मंडली में शामिल करने के लिये।

      हटाएं
  4. बहुत सुन्दर......
    संघर्ष यानि संघ - हर्ष बहुत ही सुन्दर व्याख्या..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच हम नहीं, सच तुम नहीं
    सच है महज संघर्ष ही !
    संघर्ष ही प्रगति के मार्ग को खोलता है।
    आपने बहुत सुंदर लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्रिया मीना शर्मा जी ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

**औकात की बात मत करना **

*अन्नदाता *