*मेरे ख्वाब*


 **जाने किसकी दुआ रंग ला रही है ,
 ख्वाबों के गुलिस्तान की क्यारियों से
 भीनी सी ,और मीठी सी सुगन्ध आ रही है *।

 " मैंने ख्वाबों में जो सपने बुने थे
  उन सपनों में मेरी वफ़ा शायद रंग
  ला रही है "।
  *ख्वाबों के सच होने का ना मुझको
  यकीन था ,ख्वाबों को देखना ,निंद्रा
  में आना ,फिर टूट जाने पर यकीन था* ।

  *मेरे ख्वाबों में निष्फल कर्म का अर्श था।
  आत्मा की आवाज़ को परमात्मा का संदेश
   जान बस कर्म करते रहने का जज़्बा था।
   शायद वही जस्बा ए कर्म ,मुझे रास आ गया
    दरिया की तरह में भी बहता रहा ।*
   
    *आत्मा का परमात्मा से सम्बंध हो गया
      जो उसका था सब मेरा हो गया ।
       मेरा जीवन सफ़ल हो गया ।
            सफ़ल हो गया* ।।

टिप्पणियाँ

  1. आत्मा का परमात्मा से सम्बंध हो गया
    जो उसका था सब मेरा हो गया ।
    मेरा जीवन सफ़ल हो गया ।
    सफ़ल हो गया* ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nice post keep posting and keep visiting on www.kahanikikitab.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब आत्मा का परमात्मा से मिलन हो जाये तो सब कुछ एकाकार हो जाता है ...
    जीवन आनद में हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख्वाबों के सच होने का ना मुझको
    यकीन था ,ख्वाबों को देखना ,निंद्रा
    में आना ,फिर टूट जाने पर यकीन था* ।
    बहुत ख़ूब ! आदरणीय जीवन का सही अर्थ बताती आपकी सुन्दर व विचारणीय रचना आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुक्रिया एकलव्या जी आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

"आज और कल"

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉