"☺💐 खुशहाल नववर्ष 💐☺"

प्रतिभावान ,प्रगतिशील,समृद्ध,
नव वर्ष में नवयुग की सौगात
नयी कोपलें, नयी पीढ़ी की नयी
फसल है ,समृद्ध करने को नववर्ष
         खुशहाल ।
पवित्र ,शुभ परस्पर प्रेम रुपी
      शुभ विचार  की खाद
" नव वर्ष फिर से दे रहा है ,दस्तक
  अब कर लो नव नूतन पंचांग दीवारों
         पर सुसज्जित।"
बारह मास , तीन सौ पैंसठ दिन का
एक वर्ष का काल । अब पूर्ण होने
   को है , दो हज़ार सोलह के
      वर्ष का  कार्यकाल।
अब दो हज़ार सत्तरह का सफ़र शुरू है
   बीते वर्ष का सुहाना सफ़र                                
   कुछ खोया, और कुछ पाया
  दुनियाँ के मेले में ,सपनों का मेला

 नववर्ष में ,नव नूतन सपनोँ का रेला
 हरी -भरी धरती पर सुख समृद्धि से
       परी पूर्ण वसुन्धरा।

स्वर्णिम सोच है, स्वर्णिम सपने
फिर से सोने की चिड़िया बन चेहकेगा
  भारतवर्ष का इतिहास सुनहरा।

आध्यात्मिक ता का अब दीप प्रज्ज्वलित
आत्माओं में अमर प्रेम की ज्योत जली है।
     ना कोई द्वेष है ,ना कोई वैर है
     इन्सानियत सबका धर्म होगा ।
     सादगी और ईमानदारी का जीवन होगा।

सुहाने सफ़र की सुहानी कहानी
मेहनती हाथों में है ,तकदीर देश की
सबको मिलेगी अपने  हक़ की रोटी
 नहीं सोयेगा अब कोई भूखा
शिक्षित होगा हर नौजवान ,बच्चा-बच्चा

संस्कृति ,शिक्षा,और  कर्मठता का जब रंग चढ़ेगा
 स्वर्ग धरा पर आ जायेगा
भारतवर्ष फिर सोने की चिड़िया कहलाएगा।





                   
                     





  

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

**औकात की बात मत करना **

*अन्नदाता *