**गणतंत्रता दिवस की शुभ बेला **

     **आज गणतंत्रता दिवस के
               शुभ अवसर पर देश का
               तिरंगा आन -बान और शान से
              नील गगन की ऊंचाइयों में
              भारत माता की शान में
              लहरा रहा है ,गीत खुशी
               के गा रहा है *
       ** अब खेतों में हरियाली होगी
        **अन्नदाता हमारे किसान भाइयों की
        की जेब ना खाली होगी
        धरती मां समृद्ध होगी ,तभी तो
        घर-घर में खुशहाली होगी
        दिलों में परस्पर प्रेम ,
        हर दिन ईद और दीवाली होगी*
       ** स्वेच्छा से अपने कर्मों की और
      विचारों की अभिव्यक्ति की आजादी संग
       सर्वजन हिताय ही प्राथमिकता होगी
        आचरण की सभ्यता ,स्वदेश की संस्कृति
                     का रक्षण होगा ।
        **भ्रष्टाचार जैसी ना अमानवीयता होगी
         **लक्ष्मी संग ,सरस्वती भी सर्वोपरि होगी
         शिक्षा पर ना धनराशि हावी होगी
         ज्ञान ,बुद्धि ,कौशल का विवेक से चयन होगा**

टिप्पणियाँ

  1. आमीन ...
    सेश की आन शान बान में कोई कमी नहि रहनी चाहिए ... गान तंत्र सच में गण का तंत्र बनना चाहिए ...

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "