पिछले पन्ने

***जाने क्या ढूंढ़ता रहता हूं
जिंदगी की किताब के पिछले
पन्नों में....
कोई मीठी याद ,कोई हसीन ख्वाब ,
**शायद कोई हसीन याद मुझे
हंसा देगी*
**या फिर कोई पुरानी याद दिल बहला देगी*
**पहुंच जाता हूं पिछली दुनियां में
पन्ने पलटते, पलटते ,बैठे ,बैठे एकांत में
कभी मुस्करा जाता हूं ,
कभी आंसू बहा जाता हूं**
याद आ जाती ,कोई बिछड़ी याद
रुला जाती है ,सोच में पड़ जाता हूं
काश ऐसा होता तो ...
जिंदगी का अगला पन्ना कुछ और होता
पर जो आज है ,वो भी कुछ कम नहीं
सपने अगर सच हो जाएं तो वो सपने नहीं।
कुछ मुश्किल समय ने सबक सिखाए
और अच्छी यादें से तजूर्बे सीख लिए***


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "