*एहसास *


😊* बात हुयी जब एहसास की 
   एहसास की रूह से  
 एक और एहसास निकला
☺खुशियों वाले दिन और रात का।

एहसास वो एहसास है,जिसमें
जिन्दगी का हर लम्हा व्याप्त है।💐

💐खुशी हो या गम हो एहसास तो होता ही है।

💐खुशी का एहसास एक नशा है ,जिसे पाकर
इंसान सब भूल जाता है।
पर दर्दे एहसास जिसमे रूह पाक हो
उस दर्दे एहसास की बात बहुत खास है
वह एहसास खुद से मिलाने का बेहतरीन
            एहसास है ।

एहसास की रूह से आह निकली
बस करो एहसासों से खेलने का
     शौंक ना पालों ।

ये दर्दे एहसास है ,जख्म गहरे दे जाता है 
नासूर बनकर जीवन भर चुभन देते रहते हैं।

महफ़िल में मुस्कराते चेहरे पर एक मोती आकर 
गिरता है । वह मोती एहसास का दिलों में छुपे 
       एहसास का ।
जीवन की खुशबू एहसास 
        जीवन ही एक एहसास
कभी सुख ,कभी दुख,कभी रोशन करने को जग का एहसास।
बहुत खूबसूरत होता है परस्पर प्रेम का एहसास।**😢💐

टिप्पणियाँ

  1. खुशी का एहसास एक नशा है ,जिसे पाकर
    इंसान सब भूल जाता है।
    पर दर्दे एहसास जिसमे रूह पाक हो
    उस दर्दे एहसास की बात बहुत खास है
    वह एहसास खुद से मिलाने का बेहतरीन
    एहसास है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक अहसास ही तो है जो आदमी को झकझोर देता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. जी प्रसाद जी ,एहसास ही जो कुछ सोचने को कहता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 29 मई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धनयवाद ध्रुव जी मेरी लिखी रचना को पांच लिंकों के आनन्द में शामिल करने के लिये ,आभार।

      हटाएं
  5. सुंदर एहसास लिखा है आपने ऋतु जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. एहसासों से लिपटा हमारा जीवन ख़ूबसूरत है। एहसासों का बख़ान ऋतु जी की नज़र से सुन्दर बन पड़ा है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आभार रविन्द्र सिंह यादव जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये दर्दे एहसास है ,जख्म गहरे दे जाता है
    नासूर बनकर जीवन भर चुभन देते रहते हैं
    बहुत सुन्दर ....सटीक...
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपका आभार शुक्रिया सुधा जी ,धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सराहनीय प्रस्तुति.
    बहुत सुंदर बात कही है इन पंक्तियों में. दिल को छू गयी. आभार !

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **