"केनवास जीवन के "

जीवन क्या है,मैं आज तक,
 समझ के भी समझ ना पाया ।
जीवन कभी निर्मल ,निर्द्वन्द
निश्छल ,सरल सी प्रतीत होता है ।

और फिर कभी द्वंदों के सैलाब
से लड़ता ,तूफानों में अपनी जीवन
की कश्ती को सम्भालता ।

कभी जेठ की तपती धूप में सुलगता
शीतलता को तरसता ।
फिर वहीँ कभी जाड़े की
सिरहा देने वाली सर्दी में
 दिनकर की तपिश से
स्वयं को सुकून दिलाता ।

जीवन का सिलसिला समझ के
भी समझ नहीं आता ।
हम आयें हैं ,तो जाना क्यों ?
जाना है तो आये क्यों?
शायद ये बात भी सच है
जीवन एक सराय है हम
मुसाफ़िर ,अपने सफ़र को क्यों
ना सुहाना बनाये ,क्यों मोह माया के
चक्कर में अपने सफ़र में कड़वाहट भरें ।

जब हम सब ही मुसाफिर हैं
तो फिर चलो अपने-अपने जीवन के
केनवास में सुन्दर रंग भरें
ताकि हमारे केनवास हमारे इस दुनियां
से चले जाने के बाद आने वाली पीड़ी
के लिये एक सुन्दर मिसाल बने ।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

"आज और कल"

" आत्म यात्रा "

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉