** स्वतन्त्रता दिवस की शुभ बेला **

        **"स्वतन्त्रता दिवस की शुभ बेला "**
            ********************
                    ***********
        स्वतन्त्रता दिवस की शुभ बेला
        मन में उत्साह हृदय परफुल्लित
     
        आजादी की सतरवीं वर्षगाँठ
        पन्द्रह अगस्त उन्नीस सौ सैतालिस।
     
         हमारा देश भारत अंग्रेजों की गुलामी
         की जंजीरो से आजाद हुआ था।
     
         आजादी का प्रतीक झण्डा हमारे देश
         की मान शान अभिमान तिरंगा
         आत्मसम्मान तिरंगा ,न कुछ ऐसा
         करें  की अपमानित हो तिरंगा।
     
         हाँ आज हम स्वतन्त्र हैं ।
         सतंत्रता है,हम कुछ भी करें
         विचारों की व्यवहारों की ,
         अपना लक्ष्य चुनने की स्वतन्त्रता
         आज हम किसी भी तरह परतन्त्र नहीं
         यहां तक की मतदान द्वारा देश का नेता
         चुनने की स्वतन्त्रता।
       
         भव्य आलिशान मकान
         बनाने की स्वतन्त्रता
       
        पर इस स्वतन्त्रता का अनुचित
        लाभ उठाना उचित नहीं ।
     
         देश आपका है, फिर क्यों आपके
         देश की सड़कों पर जगह जगह
         कूड़े का ढेर पड़ा मिलता है ,
         भारत वासी कहते हैं आज हम
         स्वतन्त्र हैं ,क्या स्वतंत्रता सिर्फ अपने
         निजी स्वार्थ के लिये है, अपने घरों का
         कूड़ा बहार देश की सड़कों पर फैकने की है
          अजी आप लोग तो स्वार्थी हो गये ।
     
         अजी स्वतन्त्रता सिर्फ आपकी निजी नहीं ,
         देश की स्वतन्त्रता के लिये निस्वार्थ बलिदान
         को भारत माँ भूल नहीं सकती ।
 
        आज स्वतन्त्रता दिवस के दिन प्रण हैं लेते
        निजी स्वार्थ से ऊपर उठकर अपने देश को
        स्वच्छ ,रामरणीय ,व् समृद्ध बनाये ।।।।।
       
   
     






       
   
     
        

टिप्पणियाँ

  1. आप सभी को ७० वें स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं|

    एक अनुरोध है कि आप कृपया अपने ब्लॉग पर ब्लॉगर का फ़ालोवर वाला विजेट लगाएँ ताकि आपके ब्लॉग की फीड लेने मे पाठकों को सुविधा हो |

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

**औकात की बात मत करना **

*अन्नदाता *