"सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हामारा "

      "सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा"


    मेरे  देश का तिरंगा
आकाश की ऊँचाइयओं
में बड़ी शान से लहरा रहा है ।

सुख समृधि और शांति के गीत
गुनगुना रहा है ।

अज्ञान का अन्धकार अब छंट गया है
ज्ञान के प्रकाश का उजियारा अब प्रकाश
फैला रहा है ।

सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा
की बातें अब सच हो रही हैं ।

प्रेम की मीठी भाषा से हमने सबके दिलों
में जगह बना ली है ।

विश्व कौटूमबकम "अनेकता में एकता" की
नींव मजबूत कर डाली है ।

अपनी सबसे मित्रता नहीं किसी से वैर
स्वर्णिम युग की स्थापना
सतयुग फिर से आ रहा
धरा फिर से बन रही स्वर्ग
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा
तिरंगा लहरा रहा हर्षित
प्रफुल्लित सहर्ष ।।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

"आज और कल"

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉