जन-जन के प्यारे श्री कृष्ण

कहते है ना जब जब धर्म की हानि होती है पाप और अत्याचार अत्यधिक बढ़ जाता है ,तब -तबध अधर्म का  अंत करने के लिए ,परमात्मा स्वयं धरा पर जनम लेते हैं ।
 हम लोग भाद्रपद में कृष्णपक्ष की अष्टमी के दिन श्री कृष्ण के जन्म दिवस के रूप में ,बड़े धूम धाम से मानते हैं ,जगह -जगह मंदिर सजाये जातें हैं ,श्री कृष्ण की लीलाओं की सूंदर -सूंदर झांकियाँ सजायी जाती हैं ,हम श्री कृष्ण की लीलाओं का स्मरण करते हैं ,प्रेरणा लेते है । आप लोग क्या सोचतें हैं की भगवान धरती पर आये और पापियो को मारा।  ..... ।नहीं भगवान् को भी एक साधारण मानव की तरह इस धरती पर जन्म लेना पड़ता है ,भगवान् राम को भी अपनी जीवन काल में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था ।
चाहते तो कृष्ण धरती पर आते कंस का वध करते और धरती को पाप मुक्त करा देते ,नहीं पर ये इतना आसान नहीं था ,भगवान भी जब धरती पर जन्म लेते हैं ,तो उन्हें भी साधारण मानव की तरह जन्म लेना पड़ता है ,मानव जीवन की कई यातनाएँ उन्हें भी साहनी पड़ती हैं ,कृष्ण का जन्म कारावास में हुआ ,जन्म देने वाली माँ देवकी ,नंदगाँव में माँ यशोदा की ममता की छांव मिली , बारह वर्ष ग्वाले का जीवन बिताया ,माखन चोर ,के नाम से.जाने गए अरे वो तो भगवान थे ,उन्हें माखन चुराने की क्या आव्यशकता थी  । प्रेम वश् गायोँ के ग्वाले गोपियों के गोपाल कहलाये  श्री कृष्ण की लीलाओं में बस इतना फर्क था की उनकी लीलाओं में कोई कपट नहीं था स्वार्थ नहीं था ,उनका प्रत्येक प्राणी.के प्रति समभाव था । चाहते तो  कृष्ण अपने सुदर्शन चक्र से एक ही बार में पापी कंस का वध कर देते ,नहीं पर श्री कृष्ण ने ऐसा नहीं किया,क्योंकि उन्होंने आने वाले समाज को प्रेरणा और सीख दी की धरती पर रहते हुए एक साधारण मानव  भी अपने शुभ कर्मो के आत्मबल  की शक्ति की युक्ति से चाहे जो भी वो कर सकता है ,चाहे तो वह धरती को स्वर्ग बना सकता है ,चाहे नरक ,परमात्मा ने ये धरती मानवों के लिए बनाई है मानव चाहे अपने कर्मो द्वारा धरती को स्वर्ग बना सकता है या .....जैसा चाहे ......श्री कृष्ण जन-जन के प्यारे उनका माखन चुराना भी सबको प्रिय लगता था ,क्योंकि वह निष्कपट थे ,क्योंकि उन्होंने सिर्फ प्रेम का ही सन्देश दिया चाहे वह ग्वालों केरूप में गायों के प्रति था,या फिर गोपियों ,सोलह हज़ार रानियाँ , श्री कृष्ण के सुरक्षा  कवच में सब  सुरक्षित थे ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **