ठंडी -ठंडी छाँव  "माँ"

फरिश्तों के जहां से , वातसल्य कि सुनहरी चुनरियाँ ओढे ,
सुन्दर, सजीली ,मीठी ,रसीली ,
दिव्य आलौकिक प्रेम से प्रका शित ममता की देवी  'माँ '
परस्पर प्रेम ज्ञान के दीपक जला ती रहती। 
ममत्व की सुगन्ध कि निर्मल प्रवाह धारा 
 प्रेम के सुन्दर रंगो से दुनियाँ सजाती रहती 
समर्पित पूर्ण रूपेण समर्पित '

  ममता की ठंडी -ठंडी छाँव देने को ,
पवित्र गंगा की  धारा बन ,अवगुण सारे बहा ले जाती। 
निरंतर बहती रहती ,बच्चों कि जिंदग़ी सवांरने मे स्वयँ को भूल 
जीवन बिता देती ,          
 दर्द मे दवा ,बन  मुसकराती  रहती। 
बिन कहे दिल कि कर जाती 
जाने उसे कहाँ से आवाज़ आती ,
सभी बड़े -बड़े पदों पर बैठे जनों कि जननीं है, जननीं कि कुर्बानी। 
पर उसके दिल कि किसी ने नहीं जानी ,
वही  है ,दुर्गा , वही है लक्ष्मी ,सरस्वतीं ,काली  
दुनियाँ  सारी उसी से ,
यही तो है ,  दिव्य ,अलौकिक  जननीं कि निशानी 
बड़ी विचित्र ,है'' माँ ''  के दिल कि कहानी।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

"आज और कल"

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉