अमृत की रस धार 


कविता नहीं तो कवि नहीं,रस नहीं श्रृंगार नहीं। कविता मात्र शब्दों का संग्रह  नहीं ,

भावनाओं का अद्धभुत संगम है ,
 अमृत की रसधार है।

 मन -मस्तिष्क  मे हल -चल  मचा देने वाली अद्धभुत आवाज है। .
सुन्दर शब्दों की खान है , भावों का का सम्मान है।
कविता कभी वात्स्ल्य ,प्रेम ,करुणा ,श्रृंगार ,
कभी वीर रस का पयार्य है।
कभी प्रकृति की सुन्दरता का बखान है.
शब्दों के द्वारा विचारों के रूप में परणित  ,
भावनाओं के अद्धभुत मेल का सयोंग है।

कविता अंतरात्मा में उठे तूफ़ान की आवाज है. .
दिल की गहराइयों में  उतर जाने वाले भावों की आवाज है।
कविता जीवन का यथार्थ है,
कवियों के जीवन का चरित्रार्थ है।
कविता अमरत्व की पहचान है। 
         


 




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" आत्म यात्रा "

"आज और कल"

🎉🎉" शून्य का शून्य में वीलीन हो जाना 🎉🎉