सत्संग औषधि        
यूँ तो हमारे शहर में कई कथाओं का आयोजन होता रहता है ,कुछ समय पूर्व हमारे घर से कुछ ही दूरी पर भागवत कथा का आयोजन हुआ ,कोई बहुत बड़े संत आ रहे थे , हम एक दो पड़ोसियों ने मिलकर प्रोग्राम बनाया की हम रोज भागवत   सुनने जाएंगे ,हम चार महिलाओं की सहमति हो गयी ,आखिर कथा का दिन आ गया ,हम चारों महिलाएं घर का सारा काम निपटा के अच्छे से तैयार होकर घर से चल दी। हमारी चेहरों की चमक ही अलग थी ,चेहरों के हाव -भाव दिल की ख़ुशी ब्यान कर रहे थे। तभी राह चलते -चलते एक महिला मिल गयी ,बोली क्या बात है इतने अच्छे से तैयार होकर कहाँ जा रही हो, शॉपिंग पर जा रही हो क्या /.... 
कोई सेल लगी है क्या। …?
 इस पर हम चारों महिलाएं मुस्करा दी और बोली हाँ लगी है ,चलो तुम भी चलो ,वह बोली नहीं आज नहीं कल चलूंगी यह सैल कितने दिन चलेगी ,मैंने बोला आठ दिन और हम सब तो आतों दिन जाएंगी ,इस पर वह महिला बोली आठों दिन ज्यादा पैसा आ रहा  क्या। …?
कितनी शॉपिंग करोगी ?  
इस पर मै बोली इस सेल मै पैसा नहीं लगता ,  वह महिला फिर चकित -----
ऐसे कौन सी सेल है ,जहां पैसा नहीं लगता मै भी चलूँगी।       
अगले दिन वह महिला भी तैयार होकर हमारे साथ चल दी ,फिर वह बोली हम जा कहाँ रहे हैं ,मैंने कहा कथा सुनने वह महिला तिरछा सा मुँह बना कर बोली हैं कथा सुनने। .... पहले क्यों नहीं बताया तुम लोग भी न बस। … इस पर मैने उसे समझाया , वहां संतों के मुख से जो सुनने को मिलेगा न वह अनमोल होगा संतों के मुख से दिव्य आलौकिक ज्ञान की जो बरसात होगी ,उसके बाद कुछ पाने की चाह नहीं होगी। 

मनुष्य  यूँ ही रोता रहता है मेरे  पास यह नहीं है वो नहीं है ,सब कुछ तो है। 
भगवत कथा  रस  अमृत वो  अमृत है  जिसे कानो के माध्यम से श्रवण करने के बाद  जो नशा चढ़ता   है न वो ,अनमोल  होता है ,अतुलनीय  होता है ,उसके बाद पूर्ण संतुष्टि मिलती  है सच्चा सत्संग एक  ौषधि है।  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

*****उम्मीद की किरण*****

**औकात की बात मत करना **