पोस्ट

मार्च, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

*काजल भागों वाला*

चित्र
* काजल जो बिखर  जाए तो कालिख  बन जाता है * काजल तू काला है फिर भी भाग्य वाला है  तेरा रूप निराला है  यकीनन किस्मत वाला है सौंदर्य का तू प्रेमी है बनकर काला टीका नज़र से बचाता है सौंदर्य को निहार स्वयं भी आकर्षण का केंद्र बन जाता है , काजल तुम वास्तव में भागों वाले हो
तुम्हें ही नयनों में सजाया जाता है
सौंदर्य का प्रसाधन भी माना जाता है
ऐ काजल तुम नयनों की शोभा बढ़ाना
नज़र से भी बचाना परंतु कभी ना किसी के
जीवन में कालिख बनकर मत आना
आना तो सौंदर्य ही बढ़ाने के लिए आना
नज़र से बचाने के लिए आना ।
चित्र
वक़्त लौटता है*
धारावाहिक सीरियल रामायण 1987में जब पहले दूरदर्शन पर प्रसारित हुआ था उस समय रामायण देखने के लिए भारत वर्ष के सभी अपने जरूरी काम छोड़कर ,यहां तक की सड़कों पर यातायात भी यदाकदा रामायण धारावाहिक देखने के लिए जहां टेलीविजन पर रामायण चल रहा हो रुक जाता था ...... आज समय ने कैसी करवट ली ,आज वैश्विक संक्रमण के कारण भारत के लोग अपने -अपने घरों में रुके हैं ...... और आज इस समय में रामानंद निर्देशित रामायण सीरियल फिर से दिखाया जा रहा है ,कौन कहता है प्रतिफल नहीं मिलता
(कल जिनके लिए हम रुके थे, आज हम रुके हैं तो वो हमारे लिए चल पड़े ) उदाहरणार्थ *रामायण ,महाभारत*

*आग और धुआँ *

*आग और धुआँ *


  *मैं ज्योति उजाले के साथ आयी
सब और उजाला छा गया
मैं ज्योति जलती रही चहुँ और
उजाला ही उजाला  ........
सबकी आँखे चुंध्याने लगीं
जब आग थी ,तो उजाला भी था
उजाले की जगमगाहट भी थी
जगमगाहट में आकर्षण भी था
आकर्षण की कशिश मे, अँधेरे जो
गुमनाम थे  झरोंकों से झाँकते
धीमे -धीमे दस्तक दे रहे थे।
  उजाले मे सब इस क़दर व्यस्त थे कि
ज्योति के उजाले का कारण किसी ने नहीं
जानना चाहा, तभी ज्योति की आह से निकला दर्द सरेआम हो गया
  आँखों से अश्रु बहने लगे
काले धुयें ने हवाओं में अपना घर कर  लिया जब तक उजाला था
सब खुश थे उजाले के दर्द
को किसी ने नहीं जाना
जब दर्द धुआँ ,बनकर निकला तो सब
उसे कोसने लगे।
बताओ ये भी कोई बात हुई
जब तक हम जलते रहे सब खुश रहे
आज हमारी राख से धुआँ उठने लगा तो
सब हमें ही कोसने लगे
दिये तले अँधेरा किसी ने नहीं देखा
आग तो सबने देखी पर आग का की तड़प
उसका दर्द धुआँ बनकर उड़ा तो उसे  सबने कोसा
उसके दर्द को किसी ने नहीं जाना ।

मेरा धर्म इंसानियत है ****

* शर्मसार होती इंसानियत*
    नहीं- नहीं -नहीं , मैं नहीं करूंगा जो तुम मुझसे करवाना चाहते हो ,चाहे मैं और मेरे बच्चे भूख से मर जाएं पर हम ऐसा काम कभी नहीं करेंगे ।
 इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं और हम अपने धर्म से कभी पीछे नहीं हटेंगे।
   अब्बा जान जरा दिमाग़ लगा कर सोचो ,सरकार ने नागरिकता बिल पास कराया है ,और सरकार का कहना है की सभी को नागरिकता लेनी पड़ेगी ....
 अब्बा जान - तो क्या हुआ ले लेंगे नागरिकता हमारा तो जन्म यहीं का है हमारी हमारा निकाह भी यहीं और यहीं के परिवार से हमारा रिश्ता जुड़ा अब कोई हम कहीं और थोड़े जाने वाले हैं , ले लेंगे यहीं को नागरिकता और यहीं के होकर रहेंगे इसमें दिक्कत क्या है।

 अब्बा जान ,आप भी ना बहुत सीधे हैं ये हिन्दुस्तान है,यहां हिन्दुओं का राज रहेगा ।

अब्बा जान अपने पड़ोसी मित्र पर झल्लाते हुए तो लल्लन हमें कौन सा राज करना है ,हमसे अपना घर परिवार सम्भल जाए वो ही काफी है ।
लल्लन, अब्बा जान से तुम्हें कोई नहीं समझ सकता  जब धक्के मार कर बाहर निकाल  जाओगे ना तब
पता चलेगा ।
अब्बा जान मैं आज ही यहां की नागरिकता लेता हूं फिर कौन निकलेगा हमें बाहर जब हम यहीं …

*काफिला*

चित्र
परिचय, पिताजी:- नाम चमनलाल उम्र ६५ वर्ष बेटा:- अमन उम्र २५ वर्ष टेलीविजन,समाचार वाचिका शर्मा जी- पड़ोसी पवन:- अमन का मित्र भीड़,में शोर मचाते,नारे लगाते लोग भीड़ में एक व्यक्ति पुलिस की गाड़ी :- सायरन की आवाज
(पहला दृश्य)  भीड़ का दृश्य
कुछ लोग भीड़ के पीछे आंखे बंद करके चल देते हैं उनसे पूछा जाए की तुम कहां और क्यों जा रहे हो तो जवाब मिलता है,जिस और सब जाएंगे वहीं तो जाएंगे, हम कोई अपनी डफ़ली अपना राग थोड़े अलापेंगे ।
  लोग कहते हैं कि देश देश बदल रहा है ,कुछ लोगों का कहना है की बड़े -बड़े बदलावों के होने से थोड़ी परेशानी तो होगी ही ।

        दूसरा दृश्य
पिताजी :-  खादी के कपड़े और चमड़े के सस्ते से जूते पहनने वाले पिताजी को उनके बेटे अमन ने ब्रैंडेड कपड़े और महंगे जूते लाकर दिए फिर क्या हुआ देखिए । पिताजी:-    आजकल देखो कुछ भी बदल जाता है कल तक मैं खादी का कुर्ता पाजामा और सस्ते से कपड़े के जूते पहनता था । और अब...
हे भगवान कैसा जमाना आ गया है ....बदल रहा है मेरा देश बदल रहा है।
पिताजी जूतों को अपने सीने से लगाए हुए
पिताजी नाम चमनलाल  - :   मेरे तो अच्छे दिन आ गए पूछो वो कैसे देखो…

*घर वास *

चित्र
आग लगी है बाहर वैश्विक संक्रमण की महमारी की कुछ दिनों के लिए इस आग से दूर हो जाओ आग स्वत: ही बूझ जायेगी ।
रुक जाओ थोड़ा ठहर जाओ कुछ दिन घरों के अंदर कैद हो जाओ, बाहर वैश्विक संक्रमण महामारी का राक्षस बैठा है जिसको छूने से ही संक्रमण फैल जाता है
तोड़ दो कुछ दिनों के लिए समाजिक संपर्क घरों में रहकर... लड़ना है एक महायुद्ध अपने-अपने घरों में रहकर क्योंकि इस युद्ध के क्रम को तोड़ना है ।
बाहर बैठा संक्रमण का शत्रु अकेले रहकर समयावधि में स्वत:ही मर जाएगा करोना का कहर बन फैल रहा है जहर थोड़ा ठहर ।
इधर-उधर मत भटको हाथों को बार-बार धोओ स्वच्छता पर विशेष ध्यान दो थोड़ी दूरी बनाओ समाजिक व्यवस्थाओं से दे स्वयं को आराम ।
लगी है एक आग वैश्विक संक्रमण महामरी की

*चेहरे से उदासी का पहरा हटाओ*

मेरे नयनों का लगा
मुझ पर ही पहरा
आइने में जो देखा
स्वयं का चेहरा ।

मासूम से मुखड़े पर
उदासी का पहरा
भाता नहीं हमको
उदास चेहरा।

मुस्कराहट का थोड़ा सा
चेहरे पर मल दे गुलाल
करणों में कर्णफूल तो डाल

घुंघराली लटों को
संवार
कर थोड़ा श्रृंगार
मृग नयनी इन नयनों
 में काजल तू डाल।

पैरों में पायल की खनक
तू डाल, हिरनी सी मतवाली
तेरी है चाल ।

गौरी तुम वैसे ही लगती कमाल
उस पर श्रृंगार की आदत तू डाल

तुझसे ही दुनियां में रंग बेहिसाब
उस पर तुम बातें भी करती बेमिसाल

शब्दों के मंथन से विचारों का
अमृत निकाल इस दुनियां को
दे फिर मालामाल ।
अपने औचित्य का डंका बजा
दुनियां में अपने अस्तित्व का झण्डा फहरा।






Covid 19 करोना (याद आया गुजरा जमाना)

चित्र
*याद आता है वो
दादा-दादी,नाना-नानी
चाचा-चाची बुआ-फूफा
का वो गुजरा जमाना *

 *अस्वच्छ हाथ ना हमें लगाना
हाथ ,पांव मूंह ,धोकर ही घर के
अंदर आना  तद  उपरांत ही किसी चीच को
हाथ लगाना *

*समझ छुआ -छूत उनका हमनें खूब मजाक उड़ाया*
आज करोना जैसी महामारी के संकट में अपने
बड़ों का कहा याद आया *

पादुका अपनी बाहर ही उतार कर आना
नहीं किसी बाहरी संक्रमण को घर के अंदर लाना।

पंच स्नान और स्वच्छ वस्त्रों को
धारण करके ही
भजन और भोजन करना ।

 झूठे हाथ ना कहीं और लगाना
बार-बार हाथ धोकर ही आना ।

उद्देश्य एक था संक्रामक रोगों से हमें बचाना।

*सौ प्रतिशत मिलावट का सच*

सौ प्रतिशत सच का  ,
मिलावटी सच
पक्के वादों का,
मिलावटी सच

दुग्ध में जल या जल में दुग्ध
मिलावट का अदृश्य सच

कहने में,करने में होने में,
मोहब्बत में,प्यार में ,
इरादों में,वादों में
सब में लगाया जाता है
स्वार्थ का मक्खन।

रंगों का बाजार
आकर्षण का संसार
तस्वीर के रंग हजार
मुखौटे लगा चल रहा है व्यापार
मिलावट की दुनियां के चर्चे हजार
फिर भी मिलावट का ही होता करोबार ।

सौ प्रतिशत सच का ,मिलावटी सच
चेहरे पर हंसी का मिलावटी पहरा
मिलावट का सौंदर्य, नायक -नायिकाओं के
आकर्षण का केंद्र

मिलावट की दुनियां के चर्चे हजार
मिलावट का रचता बसता संसार

बस एक ही विनती है और है मेरी
कुछ मिलावट कर लो नफरत में कुछ मिलावट
कर लो प्रेम की, स्वार्थ में कुछ मिलावट कर लो
निस्वार्थ प्रेम की ,
क्यों ना कर दें अब हम सब मिलकर मिलावट का ही
का काम तमाम।










*अति उत्तम हाथ जोड़ नमस्कार करो
लेन-देन कर्म एवं भोजन पूर्व
हाथ धोकर स्वच्छ करो
*घातक संक्रमण करोना* को दूर करो ना *




**दूर रहेगा घातक करोना **

**भारतीय परम्परा का अद्भुत
परिचय हाथ जोड़ नमस्कार करें **


भोर लालिमा हरी घास पर टहले तन को भी सूरज की किरणों से  सहलाएं,सूरज की गर्मी से रोग - प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाएं ।

योगाभ्यास व्यायाम दिन चर्या बनाएं जीवन रक्षक प्राकृतिक संपदाओं को अपनाएं ।

दैनिक कार्यों के अंतराल
स्वच्छता के नियमों को अपनाकर
स्वच्छ हाथों करें जीवन यापन करें।

प्राकृतिक सम्पदाओं का भरपूर उपयोग करें  नीम ,गिलोय तुलसी ,एलोवीरा का  सेवन कर कई रोगों को दूर भगाएं ।

सार्वजनिक स्थलों पर गंदगी ना मचाएं
स्वच्छता के नियम अपनाकर स्वस्थ जीवन अपनाएं

 **करोना के संक्रमण से डरोना
स्वस्थ जीवन के गुण अपनाकर
दूर रहेगा घातक करोना **


**मेरा धर्म तो इंसानियत है **

चित्र
नहीं- नहीं -नहीं , मैं नहीं करूंगा जो तुम मुझसे करवाना चाहते हो ,चाहे मैं और मेरे बच्चे भूख से मर जाएं पर हम ऐसा काम कभी नहीं करेंगे ।
 इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नहीं और हम अपने धर्म से कभी पीछे नहीं हटेंगे।
   अब्बा जान जरा दिमाग़ लगा कर सोचो ,सरकार ने नागरिकता बिल पास कराया है ,और सरकार का कहना है की सभी को नागरिकता लेनी पड़ेगी .....
 अब्बा जान - तो क्या हुआ ले लेंगे नागरिकता हमारा तो जन्म यहीं का है हमारी हमारा निका ह भी यहीं और यहीं के परिवार से हमारा रिश्ता जुड़ा अब कोई हम कहीं और थोड़े जाने वाले हैं , ले लेंगे यहीं को नागरिकता और यहीं के होकर रहेंगे इसमें दिक्कत क्या है।
 अब्बा जान ,आप भी ना बहुत सीधे हैं ये हिन्दुस्तान है,यहां हिन्दुओं का राज रहेगा ।
अब्बा जान अपने पड़ोसी मित्र पर झल्लाते हुए तो लल्लन हमें कौन सा राज करना है ,हमसे अपना घर परिवार सम्भल जाए वो ही काफी है ।
लल्लन, अब्बा जान से तुम्हें कोई नहीं समझ सकता  जब धक्के मार कर बाहर निकाल  जाओगे ना तब
पता चलेगा ।
अब्बा जान मैं आज ही यहां की नागरिकता लेता हूं फिर कौन निकलेगा हमें बाहर जब हम यहीं के हो जाएंगे ।

     दूसर…

*मैं प्रकृति अत्यंत दिलदार हूं मैं *

चित्र
*मैं प्रकृति अत्यंत दिलदार हूं मैं*
प्रकृति प्रदत अमिय
जीवन का सार हूं मैं
स्वच्छंद निर्मल जलधार हूं मैं
हां मैं प्रकृति, देवस्थान अनन्त
निस्वार्थ सेवा की रसधार हूं मैं।

मैं प्रकृति बहुत दिलदार हूं मैं
अन्न, कंद - मंद फल, फूल का भंडार हूं मैं।

ममत्व का सरस-सरल अद्भुत, संसार हूं मैं
पूज्य धरती माता, उठाती दुनियां का भार हूं मैं।

उस पर भी सहती अत्याचार हूं मैं
मैं वसुंधरा मुझ पर ही बनते सपनों के महल
और पाती खंजर से वार हूं मैं
मेरे द्वारा ही पोषित , मैं ही पालना
मैं प्रकृति प्राणियों का संसार हूं मैं
मैं प्रकृति प्राणियों से समृद्ध,
प्राणियों से ही संसार का अस्तित्व....


*मेरी भूमिका *

चित्र
**हम महिलाओं की भूमिका पर्दे के पीछे के सच्चे और अथक
पुरूषाथ का परिदृश्य होती है **
समाज की नींव ,संस्कारों की उर्वरा
विचारों की समृद्धि मेरे द्वारा ही रोपी जाती है
मैं एक नारी हूं ,जो अबोध को सुबोध बनाती हूं
एक स्वस्थ शिशु की पालना में अपना सर्वस्व लुटाती हूं
मैं एक नारी ही हूं जो  मकान  को घर बनाती हूं
सकारात्मक ऊर्जा से मनुष्यों के मन मस्तिष्क को शुभ भावनाओं से पोषित करती हूं ,संस्कारों के बीज अंकुरित कर समृद्ध समाज की नींव रखने की पहल करती हूं *
*हम नारी है *
हमारी भूमिकाएं अदृश्य हैं
परंतु नींव की बुनियाद हम ही होती है
समृद्ध समाज की कर्णधार भी हम ही होती हैं
समाज की तरक्की और उन्नति के सूचक
की प्रथम भूमिका हम महिलाओं की होती है
दुर्गा है , काली हैं,अन्नपूर्णा है सरस्वती हैं
फिर भी सहनशक्ति और प्रेम का सागर हैं
हम महिलाएं क्या करती हैं कह कर भी ,
समाज की नींव में मील का पत्थर बनकर खड़ी रहती हैं
कांधो पर समृद्ध समाज की नींव का भार लिए स हन शक्ति की अद्भुत मिसाल होती हैं।
 नींव से छेड़छाड़ समाज के पतन का कारण बनती है।
नींव हिलती है तो सारी सृष्टि हिल जाती है
हम महिलाओं की भूमिका प…

* मुख्य भूमिका *

चित्र
महिलाएं समाज की नींव हैं ,महिलाओं की भूमिका के बिना समाज का कोई औचित्य ही नहीं ,इसलिए नींव पर मत प्रहार करना ,प्रहार किया तो इसकी तह में समा जाओगे मिट जाओगे ढेः जाओगे ।
 * महिलाओं को महिला दिवस की बधाई हो
,महिलाओं को सम्मान देनें की बात हुई यह भी अपने आप में बहुत बड़ी बात है ।
 चलिए कुछ सोचा तो गया महिलाओं के बारे में की महिलाओं भी कुछ कर सकती हैं ।

बस आज थोड़ा सा व्यंग करने को मन कर रहा है ,..किन्तु व्यंग में भी सच ही है ।

अरे भई क्यों ?   महिलाओं के लिए सिर्फ एक दिन का सम्मान साल के 365 दिन में से एक दिन महलिआओं को सम्मान दिया जाएगा , और  बाकी के364 दिन किस को सम्मान दिया जाएगा ...... चलो छोडिए ।
महिलाओं को किसी विशेष दिवस की आवयश्कता नहीं ..... महिला दिवस हर दिन होता है हर रोज होता है और प्रतिपल होता है ,और सदा सर्वदा होता रहेगा ।
हां अगर सम्मान की बात है तो हम महिलाओं को एक दिन का ही सम्मान ...  अरे वाह ! ऐसा नहीं चलेगा
महिलाओं को सम्मान देना है तो जीवन पर्यन्त दो।
 महिलाओं को किसी विशेष दिवस को देनेकी आवयश्कता कैसे और क्यों पड़ी?
  ओहो अच्छा तो बात यह है कि पुरुष प्रधान समाज को…