“पुष्प और तितलियाँ “

  🌺🌸🌺🌸👌🌺💐💐🌸🌺🎉🌸🌺🌹🌸🌺🌸🌹🌸🌺🌸🌺🎊🎊🎊🎊
        मेरे सुन्दर संसार की बगिया में,
        विभिन्न रंग - बिरंगे पुष्पों की फुलवारी है
        मेरी फुलवारी में तितलियों का भी बसेरा होता है
        फुलवारी , आकर्षक ,मस्त , सुन्दर रंग - बिरंगी तितलियों को
        बहुत भाती हैं , वो प्यारी तितलियाँ , एक पुष्प से दूसरे पर इठलाती हैं
        मानों गीत - हँसी -ख़ुशी के गाती हैं , और कहती हैं ,
        तुम्हारे और हमारे जीवन में बहुत समानता है
        तुम भी अपने छोटे से जीवन काल में सबके जीने का सबब बनते हो
        और हम भी अपने छोटे से जीवन में , किसी की बगिया को महकाते हैं ,
        कभी किसी के दिल को भाते हैं , कभी कोई हमें तोड़ के ले जाता है
        कोई हार बना गले में पहनता है , कोई मंदिर में चढ़ाता है ,
        दुख में हो या सुख में मेरा तो भरपूर उपयोग हो जाता है ,
        अपने छोटे से जीवन में मेरा तो सम्पूर्ण उपयोग हो जाता है
        मैं “ईत्र “बनकर हवाओं को महकाता हूँ ,
        और धरती पर वायुमण्डल में अपना असर छोड़ जाता हूँ ।
        मैं पुष्प हूँ , में मरकर भी अमर हो जाता है
        सफल है जीवन मेरा ,जो किसी ना किसी उपयोग में आ जाता हूँ ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" कुदरत के नियम "