🌸🎉ख़ुशियाँ बाँटो 🎉🌺

     🌸🎉🌟🌟🌟🌟

         “अपनी ख़ुशियाँ  तो सब चाहते हैं
            परन्तु जो दूसरों। को ख़ुशी देकर ख़ुश होते हैं
          उनकी ख़ुशियाँ दिन - प्रतिदिन बढ़ती रहती हैं “
         
 गाँव में दशहरे के पर्व के उपलक्ष्य  में मेला लगा था  ।
   🌟🌟गाँव वालों में बहुत उत्साह था , मेला देखने जो जाना था , सभी अपने - अपने ढंग से तैयार होकर सज -धज कर कर मेले में जाने के लिये तैयार हो रहे थे ।
 बच्चों में भी उत्साह था , आख़िर गाँव में  कभी -कभार ही ऐसे मौक़े आते थे , की सब एक साथ मिलकर कहीं जायें।

    😊😃 वैदिक और बैभव भी मेले में घूमने जा रहे थे ,दादी का पंखा टूट गया था , दादी को अब मच्छर काटेंगे ,गर्मी भी लगेगी , वैदिक को बहुत चिंता हो रही थी .. दादी का पंखा मिल जाए मेले में वैदिक की दिली  इच्छा थी .....
   साथ में दोनो के माता -पिता भी थे , वैभव और वैदिक की माओं ने सिर पर बड़े-बड़े घूँघट ओड़ रखे थे , की अचानक आगे गड्ढा आया , और दोनो माताओं के पैर लड़खड़ाये और वो गड्ढे में जा गिरी , बच्चे ज़ोर -ज़ोर के हँसने लगे .... तभी दोनो माताओं के सिर से घूँघट हटे , और दोनो झट से उठ खड़े हुई , एक दूसरे को देखते हुए हँसने लगी , पिताजी बोले अरे भगवान अब मेले घूमने जा  रही हो घूँघट हटा दो .....,

 वैदिक और बैभव भी मस्ती में चले जा रहे थे दिल उमंग और उत्साह था ... मेले में क्या - क्या होगा ,
इतने में वैभव बोला वैदिक मैं तो सारे झूलों में झूलूँगा , और तुम वैदिक , तुम्हें तो बड़े झूलों से डर लगता है , तुम तो छोटे वाले  झूलों में ही झूलना ।  वैदिक स्वभाव से सरल और भावुक था , वह लड़ाई - झगड़े से कोसों दूर रहता था ।
जबकि वैभव चंचल स्वभाव का था , दोनों के स्वभाव बिल्कुल अलग थे । वैभव तेज़ हवा का झौंका और वैदिक शान्त , शीतल समीर .....
    🌟🌟 वैभव और वैदिक  मेले में पहुँच चुके थे , मेले में जगह - जगह खिलौनों और खाने -पीने की चीज़ों की दुकाने थी ,कभी पकोड़े , कभी जलेबी , कभी भेलपूरी , और सबसे बाद में 🍧🍨आइसक्रीम की बारी आयी , खाना - पीना तो बहुत हो गया था । अब जब तक बच्चे खिलौने ना लें तब तक सब अधूरा रहता है ।

बच्चे जाकर खिलौने की दुकान पर रुके , इधर वैदिक की नज़रें तो दादी माँ के लिये पंखा मिल जाये ,बस वही ढूँढ रही थी .....,...दशहरा का पर्व था दुकानों पर तीर -कमान ,तलवार आदि,
वैभव को  “सुनहरा तीर -कमान बहुत पसंद आ रहा था , उसने अपनी पसंद का तीर - कमान लिया कह रहा था मैं इस तीर - कमान से रावण के दस सिर काट दूँगा ... इतने में वैभव की माँ बोली अपनी छोटी बहन के लिये भी जो दादी के साथ घर पर है उसके लिये भी कुछ ले लेते हैं , वैभव की बहन के लिये गुड़िया , बाजा और खाने की चीज़ें ली गयी ।

   इधर वैदिक अपनी धुन में सरलता से दुकान दार से हर चीज़ का दाम पूछ रहा था , तभी वैदिक ने श्री राम जी की तस्वीर उठा ली और कहा भैय्या जी ये दे दो ,तभी वैदिक की नज़र आगे वाली दुकान पर पड़ी वहाँ उसे पंखा दिखायी दिया , दुकानदार को दो मिनट रुको कहकर वैदिक आगे वाली दुकान पर पंखा लेने चला गया , इतने में वैभव आया उसने दुकानदार से पूछा भाई वो लड़का जो यहाँ खड़ा था कहाँ  गया , दुकानदार ने आगे की और इशारा करते हुए कहा बच्चा है ओर कुछ पसंद आ गया होगा , तभी वैभव ने देखा वैदिक अपने हाथ में पंखा लिये आ रहा है ,वैभव बोला ये मेरा दोस्त सबको ख़ुशी देकर ख़ुश होता है .... ये देखा अपनी दादी के लिए पंखा लाया है ...
और अपनी बहन के लिये रंगों वाली पेन्सल और कापी ली वैदिक ने  , और अपनी दादी के लिये हाथ से चलाने वाला पंखा ......
संध्या का समय हो चला था सब अपने घर की और लौट रहे थे ... रास्ते में चलते-चलते वैभव , वैदिक से बोला , तुमने अपने खेलने के लिये तो कुछ लिया नहीं , वैदिक बोला , खेलने के लिये जब मैं अपनी बहन को ये रंगो वाली पेन्सल और कॉपी दूँगा तो वो इससे सुन्दर -सुन्दर चित्र बनायेगी , मैं वो देखकर ख़ुश हो जाऊँगा ,और मेरी दादी जब बाहर बरामदे में बैठती है ,तब उन्हें गर्मी लगती है , और उन्हें मच्छर भी काटते हैं ,अब पंखे से गर्मी और मच्छर दोनो भाग जायेंगे ,और राम जी हमारे सारे दुःख दूर कर देंगे .....

















टिप्पणियाँ

  1. आपकी कहानी ने ईदगाह कहानी के हामिद का स्मरण करा दिया ।
    बहुत ही सुंदर कहानी

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी अभिलाषा जी यह बात तो सत्य किसी को ख़ुशी देकर जो ख़ुशी मिलती है उसकी बात जी अलग होती है ... आभार

      हटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

" हम जैसा सोचते हैं ,वैसा ही बनने लगते हैं "

"आज और कल"