संदेश

💐👌👍 🎂 🎂बचपन का मीठा सा नया साल 🎂🎂💐💐👍👌

💐👌👍 🎂 🎂बचपन का मीठा सा नया साल 🎂🎂💐💐👍👌

 सच है ,बचपन के बारे में जितना कहा जाये वास्तव में कम है ।     यूँ तो मैं बचपन को बहुत पीछे छोड़ आयी हूँ  ,परन्तु अपने अन्दर  के  बचपने को कभी मरने नहीं दिया मैंने  ।क्योंकि बचपन से मासूम ,सादगी से भर जीवन दोबारा नहीं मिलता ।

इसी लिये कहते हैं न ,जिन्दगी को जिन्दा दिली से गुजारो क्यों रो -रो कर गुज़ारें ज़िन्दगी 😃 जितनी साँसों की माला मिली है जीना तो है ही फिर क्यों  ना हर लम्हे को हँस के जिंदादिली से जिये ।

नये साल का मौका है । आज मुझे नये साल से जुड़े कुछ लम्हें याद आ रहे हैं । नये साल का मौका नयी उमंग नयी तरंग  कुछ नया करने का मौका  हम क्यों पीछे रहते  पार्टी करना तो स्वभाविक ही था । अब तो नये साल हो या कोई भी भी अच्छा मौका हम सब लोग परिवार वाले ,दोस्त आदि पार्टी अरेंज करते हैं या फिर किसी होटल में जा कर पार्टी करते हैं । लेकिन आज से दस पंद्रह साल पहले ऐसा नहीं होता था ,जो भी मौज मस्ती करते थे घर पर  ,या फिर किसी मनोरंजन स्थल पर खाना बना कर ले जाते थे  और प्राकृतिक वातावरण में खेलते खाते ,मौज-मस्ती करते थे । 🌲🌳🌴🌹

कई वर्…

"☺💐 खुशहाल नववर्ष 💐☺"

प्रतिभावान ,प्रगतिशील,समृद्ध,
नव वर्ष में नवयुग की सौगात
नयी कोपलें, नयी पीढ़ी की नयी
फसल है ,समृद्ध करने को नववर्ष
         खुशहाल ।
पवित्र ,शुभ परस्पर प्रेम रुपी
      शुभ विचार  की खाद
" नव वर्ष फिर से दे रहा है ,दस्तक
  अब कर लो नव नूतन पंचांग दीवारों
         पर सुसज्जित।"
बारह मास , तीन सौ पैंसठ दिन का
एक वर्ष का काल । अब पूर्ण होने
   को है , दो हज़ार सोलह के
      वर्ष का  कार्यकाल।
अब दो हज़ार सत्तरह का सफ़र शुरू है
   बीते वर्ष का सुहाना सफ़र                                
   कुछ खोया, और कुछ पाया
  दुनियाँ के मेले में ,सपनों का मेला

 नववर्ष में ,नव नूतन सपनोँ का रेला
 हरी -भरी धरती पर सुख समृद्धि से
       परी पूर्ण वसुन्धरा।

स्वर्णिम सोच है, स्वर्णिम सपने
फिर से सोने की चिड़िया बन चेहकेगा
  भारतवर्ष का इतिहास सुनहरा।

आध्यात्मिक ता का अब दीप प्रज्ज्वलित
आत्माओं में अमर प्रेम की ज्योत जली है।
     ना कोई द्वेष है ,ना कोई वैर है
     इन्सानियत सबका धर्म होगा ।
     सादगी और ईमानदारी का जीवन होगा।

सुहाने सफ़र की सुहानी कहानी
मेहनती हाथों में है ,तकदीर देश की
सबको मिलेग…

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते । पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है । जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है । हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है । बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता । बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है । मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये, फिर मस्त । कोई तेरा मेरा नहीं निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक मीठा प्यारा भोला बचपन । ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे । बच्चे थे तो अच्छे थे । 

काश की वो वक्त वहीं थम जाता । हम बड़े न होते बच्चे ही रह जाते ।
 पर क्या करें की प्रकर्ति का नियम है ,बचपन , जवानी बुढ़ापा , दुनियां यूं ही चलती रहती है ।
जिसने जन्म लिया है ,उसकी मृत्यु भी शास्वत सत्य है उससे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता ये एक कड़वा सच है ।

हम बात कर रहे थे ,बचपन की , बचपन क्यों अच्छा लगता है ।
बचपन में हमें किसी से कोई वैर नहीं होता ।
बचपन का भोलापन ,सादगी ,हर रंग में रंग जाने की अदा भी क्या खूब होती है ।
मन में कोई द्वेष नहीं दो पल को लड़े रोये,  फिर मस्त  । कोई तेरा मेरा नहीं  निष्पाप निर्द्वेष निष्कलंक  मीठा प्यारा भोला बचपन ।


  ना जाने हम क्यों बड़े हो गये , मन में कितने द्वेष पल गये
  बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी
  बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे
   तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे
  प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे ।
  बच्चे थे तो अच्छे थे ।



💐👍" स्वर्णिम युग ने दी दस्तक "👍💐

💐👍" स्वर्णिम युग ने दी दस्तक "👍💐

    यह बात तो निःसंदेह सत्य है ,कि हर पक्ष के दो पहलू होते हैं ।
     ऐसा भी नहीं की मेरी राजनीति में कोई विशेष रुचि है ।न ही मैं किसी पार्टी विशेष् की पक्षधर हूँ ।
    हाँ मैं देश हित की पक्षधर हूँ ,जहाँ बात देश हित की हो उससे कैसे मुँह मोड़ा जा सकता है ।

   हाँ मैं बात कर रही हूँ ,देश के प्रधानमंत्री आदरणीय मोदी जी ...
   पुराने नोटों की बंदी और नये नोटों का चलाना ।

   मोदी जी के इस फैसले के बाद मानो देश में कोई भूकंप आ गया था , सारा देश विचलित माता बहने भी  घरों में अपनी जमा पूँजी
 समेटने लगी ।व्यपारी वर्ग, आम जनता भी पुराने नियमों के लागू न होने से और नए नियमो के आने से काफी परेशान हुए ।


 परन्तु यह बात भी पूर्णतया सत्य है ,कि भारत देश की सवा सौ करोड़  जनता भले ही अपने मुँह से कुछ न कहे पर वो मन ही मन बहुत खुश है । खुश है क्योंकि पुरानी भरष्टाचार की बेडियाँ अब खुलेंगी ।
पुरानी  नीतियॉं पुराना काला धन अब सफेद होजाएगा।

 ,बहुत हल्का पन महसूस होगा ,मानसिक तनाव भीं खत्म होगा जो जितनी मेहनत करेगा उतना धन कमाएगा । अगर नोट बंदी का यह कदम अनु…

👍 बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

😄 👍  बचपन के खट्टे मीठे अनुभव👍😉😂😂

   कल की ही बात है ,मैं और मेरी मित्र कई दिनों बाद मिले । हम दोनोँ बचपन से एक स्कूल में पड़े ,स्कूल के बाद
      एक ही कालेज से हमने डिग्री ली ।
     क्योंकि बचपन से हम संग रहे तो ,एक दुसरे की पसंद नापसन्द  भी हमें अच्छे से पता थी ।
     हम दोनों ने संग -संग बहुत ख़ेल कूद खेले खूब मस्तियाँ करी,पर ऐसा कुछ नहीं किया जिससे किसी को कोई भारी नुक्सान हो ।
      अनजाने में बालपन में हुई गलती को तो भगवान भी माफ़ करता है

       पर एक बार की बात है, खेलते खेलते हमारी बॉल पड़ोसन आन्टी के शीशे पर जा लगी और शीशा टूट गया ,बस क्या था हम
     दोनों सहेलियाँ अपने-अपने घरों में यूँ जा बैठी जैसे हम तो कई घंटों से अपनी जगह से हिली ही ना हों ।          

     भाग्यवश उस समय वो पड़ोसन आँटी घर पर नहीं थी घर पर ताला लगा वो सब्जी लेने गयी हुईं थी ।
🐒🐒उन दिनों कुछ बन्दरों ने हमारे  घर के आस -पास डेरा डाला हुआ था मौका मिलते ही बंदर टूटे हुए शीशे से आंटी के घर जा घुसे मै और मेरी सहेली सारा नजारा छुप-चुप कर देख रहे थे मन ही मन खुश थे की आँटी सोचेगी की बन्दरों 🐒ने शीश…

💐 शब्द तो वहीँ हैं 💐

☺शब्द तो वहीं हैं☺

हाँ शब्द तो वही है
बातें भी वही है
पर मेरे लिखने का अंदाज
मेरा अपना है।

दिल की बातों को ,
शब्दों की माला में पिरो
एक सुव्यवस्थित आकार दे
श्रृंगार करते रहता हूँ ।
कभी करुणा ,कभी प्रेम ,कभी हास्य,
कभी वीर रस के रंग में रंगते रहता हूँ ।

कभी कहानी लिख कर अपनी बात कहता हूँ
कभी कोई कविता लिख समाज को
समर्पित करते रहता हूँ ।

लिखता तो वही हूँ ,जो हम सब को ज्ञात होता है
शब्द भी वही होते हैं ,जज़्बात भी वही होते है।

पर अपनी बात को अपने ढँग से
सवाँर कर समाज को समर्पित कर देता हूँ।

मेरी कविता ,कहानी ,लेख ,कहीं कोई
अपनी छाप छोड़ जाये ,किसी के दिल
की गहराइयों में उतर अपना करिश्मा
दिखा जाये ,किसी के जीने का अंदाज़ बदल जाये
किसी की सोच में सकारात्मक परिवर्तन आ जाये
तो मेरे परमात्मा के द्वारा मुझे सौंपा गया
मेरा कर्म सफल हो जाये ।
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
         💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
                 💐💐💐💐💐💐💐💐
                       💐💐💐💐💐💐


                                 💐💐💐

💐अभिनय💐

☺"अभिनय"☺

मगर जब से हमने हर मौसम में लुत्फ़ लेना सीख लिया ,

जिंदगी के सब शिकवे बेकार हो गए ।

ज़िन्दगी तो बस एक नाटक है ,

दुनियाँ के रंगमंच में हमें अपने किरदार को बखूबी निभाना है ।

फिर क्यों रो _रो कर दुखी होकर गुजारें जिंदगी

जीवन के हर किरदार का अपना एक अलग अंदाज़ है

क्यों अपना-अपना किदार बखूबी निभा लें हम

इस नाटक की एक विशेष बात है ,

क़ि हमने जो परमात्मा से मस्तिक्ष की निधि पायी है ,

बस उस निधि का उपयोग ,करने की जो छूट है ,

उससे हमें खुद के रास्ते बनाने होते हैं

हमारी समझ हमारी राहें निशिचित करती हैं ,

परिश्रम ,निष्ठा, और निस्वार्थ कर्मों का मिश्रण जब होता है,

तब मानव अपने किरदार में सुंदर रंग भरता है,

और तरक्की की सीढियाँ चढ़ता है ,

भाग्य को कोसने वाले अभागे होते हैं ,

वह अपने किदार में शुभ कर्मों का पवित्र रंग तो भरते नहीं

फिर भाग्य को कोसते हैं ,

और परमात्मा को दोषी ठहराते हैं।